Indian News

नकाबपोशों के साथ नजर आईं आइशी घोष? ABVP ने ट्वीट किया वीडियो

दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में बीते रविवार को दो गुटों में हुए हिंसक झड़प और हमले के बाद लेफ्ट छात्र संगठन और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर तेज हो गया है. दिल्ली के अलावा देश के दूसरे हिस्सों में भी लेफ्ट छात्र विंग और एबीवीपी के समर्थन और विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं.

यूनिवर्सिटी परिसर में हिंसा के बाद जहां लेफ्ट विंग के छात्र संगठनों ने इसका आरोप ABVP पर लगाया था अब वहीं ABVP ने एक वीडियो जारी कर इस हिंसा को लेफ्ट छात्र संगठन प्रायोजित बताया.

एबीवीपी के समर्थन में जेएनयू में हिंसा के विरोध में मुंबई में बड़ी संख्या में उसके कार्यकर्ता जुटे और उन्होंने हिंसा में लेफ्ट छात्र विंग का हाथ बताया. मुंबई एबीवीपी के महासचिव अनिकेत ओवल ने कहा, ”वीडियो में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि जेएनयूएसयू के अध्यक्ष ने एक मुखौटा पहन रखा था और हमले का नेतृत्व कर रही थी. हमारे 23 सदस्य घायल हैं और 11 सदस्य अभी भी लापता हैं. हम जेएनयूएसयू से पूछना चाहते हैं कि हमारे लापता सदस्य कहां हैं “.

वहीं ABVP ने जो वीडियो जारी किया है उसे आइशी घोष ने बदनाम करने की साजिश करार दिया है. उन्होंने आजतक से बात करते हुए कहा, ‘उस वीडियो को लेकर मैं कोई बचाव नहीं करूंगी. अगर मुझे हिंसा करनी होती तो मैं सीसीटीवी में अपना चेहरा दिखाते हुए नजर नहीं आती.’

बता दें कि रविवार को जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) परिसर में हुई हिंसा में छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष बुरी तरह घायल हो गईं थीं. आज इस मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आइशी ने हिंसा के लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने सोमवार को कहा कि पिछले 4-5 दिनों से आरएसएस से जुड़े प्रोफेसर्स हमारे आंदोलन को तोड़ने के लिए हिंसा भड़का रहे थे. यह एक सुनियोजित हमला था. वे लोगों को बाहर निकाल-निकालकर हमला कर रहे थे.

आइशी ने कहा कि जेएनयू सिक्योरिटी और हमलावरों के बीच साठगांठ थी, जिसकी वजह से उन्होंने हिंसा रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया. हमारी मांग है कि यूनिवर्सिटी के वाइस-चांसलर को तुरंत हटाया जाए.

रविवार रात जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में कुछ नकाबपोश हमलावर घुसे थे, जिनके पास डंडे और लोहे की छड़ थीं. उन्होंने स्टूडेंट्स और टीचर्स की जमकर पिटाई की और कैंपस में तोड़फोड़ भी की. इसके बाद प्रशासन ने पुलिस को कॉल किया, जिसने कैंपस में फ्लैग मार्च किया. इस हमले में जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष समेत 28 छात्र घायल हो गए थे.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: