Indian News

कौशल सेतु कार्यक्रम शिक्षा जगत के लिये अनमोल उपहार – श्री राज नेहरू

पलवल. श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय ने कॉविड-19 के समय में राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शिक्षा को हर स्तर के विद्यार्थी तक पहुंचाने एवं उन्हें कौशल बनाने के साथ ही बेहतर शिक्षकों की टीम उपलब्ध करवाने के उददेश्य से कौशल सेतु नामक कार्यक्रम शुरू किया है, जिसके द्वारा राष्ट्रीय शैक्षणिक एवं मार्गदर्शन सेवाएं शुरू की हैं. कौशल सेतु कार्यक्रम के माध्यम से विद्यार्थी ऑनलाइन माध्यम से इस कार्यक्रम का हिस्सा बन सकता है, इसके लिए किसी प्रकार का कोई चार्ज नहीं है, यह आनलाइन सेवा वेविनार के माध्यम से बिल्कुल मुफ्त में उपलब्ध है.

. कौशल सेतु कार्यक्रम के माध्यम से देश-विदेश के शिक्षकों और विद्यार्थियों को आपस में शैक्षणिक गतिविधियों के लिए जोड़ा जाएगा. इस दौरान विश्वविद्यालय ने बेहतर शैक्षणिक गुणवत्ता प्रदान करने के लिए शिक्षकों, इंड़स्ट्री एक्सपर्ट, प्रोफेशनल आदि को आमंत्रित किया है. कौशल सेतु कार्यक्रम के संयोजक डीन एकेडमिक प्रो. आरएस राठौर एवं डीन एसएफएमएसआर प्रो. ज्योति राणा ने बताया कि एसवीएसयू के दूरदर्शी एवं कौशल निपुण कुलपति श्री राज नेहरू जी के कुशल नेतृत्व में यह कार्य संभव हुआ है. इस कार्यक्रम के माध्यम से सिर्फ एसवीएसयू का विद्यार्थी ही नहीं, अपितु राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय स्तर का विद्यार्थी इस कार्यक्रम से जुड़कर बेहतर शिक्षा प्राप्त कर सकता है. विश्वविद्यालय का उददेश्य ज्यादा से ज्यादा विद्यार्थियों को ऑनलाइन माध्यम से बेहतर शिक्षा प्रदान करना है.

विश्वविद्यालय के कुलपति श्री राज नेहरू ने कौशल सेतु कार्यक्रम की सराहना की एवं सयोजकों को इसके लिए बहुत-बहुत बधाई दी. श्री राज नेहरू ने बताया कि कॉविड़-19 के चलते लॉकड़ाउन चला हुआ है. जिसमें सुरक्षित रहने के लिए सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार घर से ही विद्यार्थी पढ़ाइ कर रहे हैं, ऐसे में सवाल है कि विद्यार्थियों को बेहतर शैक्षणिक गुणवत्ता प्रदान की जाएं ताकि वह घर रहकर ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा ग्रहण करें एवं उन्हें शिक्षा से संबंधित किसी प्रकार की परेशानी ना हो.‘कौशल सेतु’ देश भर के उन हजारों छात्रों को लाभान्वित करेगा जो शिक्षकों से मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं और हम उन्हें संस्थानों के अनुभवी शिक्षकों से जोड़ेंगे. एसवीएसयू डिजिटल लर्निंग प्लेटफॉर्म परियोजना के माध्यम से छात्रों और शिक्षकों के बीच एक सेतु का काम करेगा. यह एक अभिनव सहयोगी मॉडल है जो छात्रों को लाभान्वित करने के लिए एक स्थान पर सामूहिक शैक्षणिक शक्ति का आयोजन करेगा. कौशल सेतु कार्यक्रम शिक्षा के लिए विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को राष्ट्रीय ही नहीं अपितु अंतराष्ट्रीय स्तर पर जोड़ने का कार्य करेगा. विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर इससे संबंधित हर प्रकार की जानकारी उपलब्ध है, जिससे विद्यार्थी एवं विशेषज्ञ आपस में आसानी से जुड़ सकते हैं. श्री राज नेहरू ने बताया कि टैक्नॉलॉजी अब हर जगह पहंच गई है एवं कॉविड़-19 की बजह से काफी विद्यार्थी ऐसे है जो हो सकता है शिक्षा से वचिंत हो, इसके लिए विद्यार्थी को सिर्फ जो जानकारी चाहिए वो हमें बतानी है, हमारे अध्यापक, इंडस्ट्री एक्सपर्ट एवं प्रोफेशनल टीम उसका तुरंत समाधान करने के लिए तैयार हैं.

ऑनलाइन माध्यमों के द्वारा रोजाना कक्षाएं लगाई जा रही है. श्री राज नेहरू ने बताया कि कौशल सेतु कार्यक्रम शिक्षा जगत के लिये अनमोल उपहार है, ज्यादा से ज्यादा विद्यार्थी एवं शिक्षक इससे जुड़े एवं समाज एवं राष्ट्र में इस महामारी के दौरान शिक्षा की लौ जलाने का कार्य करें.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: