Indian News

मेरठ यूनिवर्सिटी और क्रीडा भारती के योग शिविर का समापन, इन बातों पर रहा ज़ोर

मेरठ. यहां स्थित चौधरी चरण सिंह मेरठ युनिवर्सिटी और क्रीडा भारती के संयुक्त तत्वावधान में अयोजित तीन दिवसीय योग शिविर का सोमवार को समापन हो गया. इस अवसर पर सीसीएसयू के वीसी प्रो.नरेंद्र कुमार तनेजा ने कहा योग का लाभ निरंतर अभ्यास से मिलता है। योग करने से शरीर, मन, बुद्धि, आत्मा शुद्ध होते हैं। इसको करने से हम अपने शरीर को पुष्ट, मजबूत, सबल व श्रेष्ठ बना सकते हैं। इसीलिए योग को केवल योग दिवस पर ही नहीं निरंतर और प्रतिदिन करना चाहिए। हमारा सौभाग्य है कि हमने भारत में जन्म लिया है। जिसकी संस्कृति को दुनिया भी श्रेष्ठ मानती है।

मेरठ हापुड लोकसभा सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने कहा कि योग शरीर मन की प्रवृति को जोडने का आदर्श विज्ञान है। शारीरिक क्षमता को बढाने के लिए योगसबसे ज्यादा सहायक है। यह मनुष्य के श्वसन तंत्र को मजबूत करता है।

शिविर में बोलते हुए प्रदेश सरकार में सैनिक कल्याण, होमगार्डस, प्रांतीय रक्षक दल व नागरिक सुरक्षा कैबिनेट मंत्री व क्रीडा भारतीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष चेतन चौहान ने कहा कि योग शरीर को तो मजबूत करता ही है इसके साथ ही मानसिक रूप से भी मनुष्य को मजबूत बनाता है। इसके निरंतर अभ्यास से शरीर के अन्य अंग भी स्वस्थ होते है। डाॅक्टर्स का कहना है कि यदि मनुष्य को पेट ठीक है तो वह कभी बीमार नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि एक तो चीन ने कोरोना वायरस से पूरी दुनिया को परेशान कर रखा है। विशेषकर सीमा पर विवाद करके भारत को परेशान करने का काम किया है। लेकिन भारत किसी भी प्रकार से कमजोर नहीं है। वह हर की परिस्थितयों में विजय प्राप्त करने की क्षमता रखता है। उन्होंने कहा कि चीन गलतफहमी न रहे। पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत का लोहा पूरी दुनिया मान रही है। यह बात सीसीएसयू व क्रीडा भारती के संयुक्त समापन के अवसर पर कही। योग ने दुनिया को प्रेरणा देने का काम किया।

श्वसन तंत्र को मजबूत करता है योग
योग गुरू स्वामी कर्मवीर महाराज ने कहा कि हमें अपने विचारों को सकारात्मक रखना चाहिए। कारोना श्वसन तंत्र पर सबसे ज्यादा प्रभाव करता है और योग श्वसन तंत्र को मजबूत करने का काम करता है। मनुष्य के शरीर में सर्वाधिक रोग गले से प्रारंभ होते है। कोरोना महामारी के दौरान डब्ल्यूएचओ ने पाया कि जो लोग शाकाहारी है उन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी है। जबकि जो लोग मासाहार का प्रयोग करते है उन पर कोरोना का असर सबसे अधिक हुआ है। स्वामी कर्मवीर महाराज ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान यह देखने में आया कि प्रदूषण बिल्कुल कम हो गया। इसीलिए दुनिया को चाहिए कि साल में 15 दिन सभी कामों को बिल्कुल बंद कर दिया जाए। यदि प्रदूषण साफ रहेगा तो रोग भी कम होंगे। इस अवसर पर राज्यसभा सांसद विजयपाल तोमर, कुलसविच धीरेंद्र कुमार वर्मा, प्रो. एके चैबे, प्रो. योगेंद्र सिंह, प्रो.वीरपाल, प्रो. जयमाला, प्रो. मृदुल गुप्ता, डाॅ.राजीव सिजेरिया, प्रो.आलोक कुमार, इंजीनियर मनीष मिश्रा, प्रांत मंत्री अनिल शर्मा, प्रांतीय अध्यक्ष डाॅ. संदीप त्यागी डाॅ. प्रशांत कुमार, डाॅ. ओमपाल शास्त्री, कपिल त्यागी आदि मौजूद रहे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: