Civil Services Academy
Trending

कल होगी यूपीएससी सिविल सेवा प्रीलिम्स परीक्षा, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किए नियम और गाइडलाइंस

सुप्रीम कोर्ट ने यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के लिए जारी किए नियम और गाइडलाइंस

नई दिल्ली।

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा रविवार 4 अक्टूबर को सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2020 का आयोजन किया जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट में यूपीएससी द्वारा दायर हलफनामे के मुताबिक यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2020 के लिए 10 लाख से ज्यादा युवाओं ने आवेदन किया है। सोमवार तक रजिस्टर्ड आवेदकों में से साढ़े छह लाख से ज्यादा (करीब 65 फीसदी) अभ्यर्थी अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर चुके थे। परीक्षा की तैयारी पूरी हो चुकी है। परीक्षा देश भर के विभिन्न शहरों में 2,569 केंद्रों पर होनी है। कोरोना काल के बीच आयोजित हो रही परीक्षा के दौरान अभ्यर्थियों को कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए कई दिशा-निर्देशों का पालन भी करना होगा।

यहां पढ़ें – एसएससी सीएचएसएल परीक्षा प्रवेश पत्र जारी, www.sscer.org वेबसाइट से करें डाउनलोड

सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी यूपीएससी प्रीलिम्स के दिशानिर्देश –
संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने कहा है कि सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा देने वाले परीक्षार्थियों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य है। परीक्षार्थी पारदर्शी बोतलों में सैनिटाइजर भी ला सकते हैं। बिना मास्क के किसी भी परीक्षार्थी को परीक्षा केन्द्र में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जायेगी।
परीक्षार्थियों को कोविड-19 के नियमों का पालन करना होगा। उन्हें परीक्षा कमरों के साथ परिसरों में भी सामाजिक दूरी का पालन करना होगा।

पहले यह परीक्षा 31 मई को होनी थी –
बता दें कि सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2020 पहले 31 मई को होनी थी लेकिन कोविड-19 महामारी के चलते आयोग ने इसे स्थगित कर 4 अक्टूबर को निर्धारित कर दिया था। सिविल सेवा परीक्षा का प्रथम चरण प्रारंभिक परीक्षा कहलाता है। इसकी प्रकृति पूरी तरह वस्तुनिष्ठ (बहुविकल्पीय) होती है, जिसके अंतर्गत प्रत्येक प्रश्न के लिये दिये गए चार संभावित विकल्पों (a, b, c और d) में से एक सही विकल्प का चयन करना होता है।

कल होगी यूपीएससी सिविल सेवा प्रीलिम्स परीक्षा, पटना में 97 केंद्रों पर परीक्षा की तैयारी

5 Things to do before you take your Online Exam - ABPEducation

पटना।

यूपीएससी की सिविल सर्विसेज की प्रारंभिक परीक्षा कल यानि 4 अक्टूबर देशभर मे आयोजित की जाएगी। यह परीक्षा पटना के 97 केंद्रों पर आयोजित होगी जिसमे करीब 47 हजार परीक्षार्थी भाग लेंगे। परीक्षा के सफल, सुचारू ,शांतिपूर्ण एवं कदाचार मुक्त परीक्षा के संचालन के लिए प्रमंडलीय आयुक्त ने डीएम, एसएसपी, एसपी ट्रैफिक, नगर आयुक्त, मजिस्ट्रेट एवं केंद्राधीक्षक के साथ शुक्रवार को बैठक की। इस दौरान कई बिन्दुओं पर रणनीति तैयार की गई।

परीक्षा के लिए दिए गए आवश्यक निर्देश –
आयुक्त ने प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी व केंद्र अधीक्षक को परीक्षा संचालन की मार्गदर्शिका से अवगत कराया गया। इसके तहत सीटिंग प्लान, विधि व्यवस्था, कोविड प्रोटोकॉल का पालन, जैमर अधिष्ठापन, पेयजल पंखे की समुचित व्यवस्था, विद्युत् आपूर्ति की निर्वाध व्यवस्था आदि के बारे में आवश्यक निर्देश दिए गए। यूपीएससी का सिविल सर्विसेज प्रारंभिक परीक्षा दो पालियों में होगी। प्रथम पाली 9:30 बजे से 11:30 बजे तक तथा द्वितीय पाली 2:30 बजे से 4:30 बजे तक होगी।

यहां पढ़ें – MH CET सेल ने लाॅ परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र किया जारी, वेबसाइट से करें डाउनलोड

परीक्षा प्रारंभ होने 10 मिनट पूर्व ही प्रवेश की अनुमति –
बताते चलें कि परीक्षार्थी को किसी भी परिस्थिति में परीक्षा प्रारंभ होने के 10 मिनट पूर्व यानी प्रथम पाली में सुबह 9:20 बजे तक व द्वितीय पाली में दोपहर 2:20 बजे तक ही परीक्षा केंद्र के परिसर में प्रवेश की अनुमति रहेगी। इसके बाद आने वाले परीक्षार्थियों को परिसर में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी एवं उपस्थित परीक्षार्थी को परीक्षा समाप्ति के पूर्व परीक्षा छोड़ने की अनुमति नहीं दी जाएगी। परीक्षा केंद्रों पर भीड़ -भाड़ नहीं लगाने, विधि व्यवस्था संधारित रखने तथा परीक्षा का शांतिपूर्ण आयोजन सुनिश्चित कराने के लिए जिलाधिकारी एवं वरीय पुलिस अधीक्षक द्वारा केंद्रों पर पर्याप्त संख्या में दंडाधिकारी पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति की गई है।

उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध होगी अनुशासनिक कार्रवाई –
परीक्षा के कदाचारमुक्त संचालन के लिए मोबाइल फोन, ब्लूटूथ, आईटी गेजेट्स व अन्य संवाद उपकरण के परीक्षा केंद्र के भीतर प्रवेश पर रोक लगाई गई है। इसका सख्ती से अनुपालन सुनिश्चित कराने का निर्देश सभी दंडाधिकारी को दिया गया है। उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध अनुशासनिक कार्रवाई की जाएगी तथा भविष्य में आयोग द्वारा आयोजित होने वाली परीक्षाओं से भी वंचित कर दिया जाएगा।

प्रभावी मॉनिटरिंग कंट्रोल रूम से –
परीक्षा के आयोजन के लिए पूरी तैयारी कर ली गयी है। इसके लिए जिला प्रशासन ने कंट्रोल रूम स्थापित किया है और मजिस्ट्रेट तैनात किये है। कदाचारमुक्त परीक्षा के लिए प्रमंडलीय आयुक्त ने बैठक की। परीक्षा के लिये 47 हजार परीक्षार्थी शामिल होंगे। परीक्षा केन्द्र पर 10 मिनट पहले तक में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। प्रभावी मॉनिटरिंग कंट्रोल रूम से की जाएगी।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: