Civil Services Academy
Trending

यूपीएससी सिविल सर्विसेज के लिए प्रारंभिक परीक्षा आज से हुई शुरू, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया है निर्देश

नई दिल्ली।

देशभर मे आज यानि 4 अक्टूबर 2020 को संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) सिविल सर्विसेज के लिए प्रारंभिक परीक्षा 2020 का आयोजन किया जा रहा है। यह आयोजन देशभर के विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर किया जा रहा है। परीक्षा का आयोजन दो पालियों में हो रहा है। सुबह 9:30 से 11:30 तक पहली पाली और दोपहर 2:30 से शाम 4:30 तक दूसरी पाली निर्धारित है।परीक्षा देश के विभिन्न शहरों में 2,569 केंद्रों पर हो रही है। सुप्रीम कोर्ट में यूपीएससी द्वारा दायर हलफनामे के मुताबिक यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2020 के लिए 10 लाख से ज्यादा युवाओं ने आवेदन किया है।

साढ़े छह लाख अभ्यर्थियों ने डाउनलोड किया एडमिट कार्ड –
आज पहली पाली के परीक्षा सम्पन्न हो गयी है। दिल्ली में कोरोना महामारी के बीच यूपीएससी के अभ्यर्थी परीक्षा देने पहुंचे। परीक्षा केंद्र के बाहर परीक्षा से जुड़े निर्देशों का पोस्टर भी लगाया गया है। सोमवार तक रजिस्टर्ड आवेदकों में से साढ़े छह लाख से ज्यादा (करीब 65 फीसदी) अभ्यर्थी अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर चुके थे। परीक्षा की तैयारी पूरी हो चुकी है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में जब कुछ अभ्यर्थियों की ओर से यूपीएससी प्री परीक्षा को स्थगित करने की याचिका दी गई थी तो इसके विरोध में यूपीएससी ने कहा था कि परीक्षाओं को स्थगित करना असंभव है।

यहां पढ़ें – नीव संस्था ने शहीद भगत सिंह जी की 113वीं जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित की एक राष्ट्रीय वेबिनार

गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइन्स का सख्ती से पालन –
सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2020 पहले 31 मई को होनी थी लेकिन कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के चलते आयोग ने इसे स्थगित कर 4 अक्टूबर 2020 को निर्धारित किया था। हालांकि परीक्षा के दौरान यूपीएससी और इस परीक्षा में भाग लेने वाले छात्रों को भारत सरकार के गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइन्स का सख्ती से पालन करना होगा।

यूपीएससी प्रीलिम्स परीक्षा के लिए दिशा-निर्देश-
1- यूपीएससी सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा देने वाले परीक्षार्थियों के लिए मास्क या फेस कवर पहनना अनिवार्य है। आयोग ने कहा है कि परीक्षार्थी पारदर्शी बोतलों में सैनिटाइजर भी ला सकते हैं। बिना मास्क के किसी भी परीक्षार्थी को परीक्षा केन्द्र में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जायेगी। अपने साथ एडमिड कार्ड जरूर ले जाएं। इसके बिना प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

2- परीक्षार्थियों को कोविड-19 के नियमों का पालन करना होगा। उन्हें परीक्षा हॉल/कमरों के साथ परिसरों में भी सामाजिक दूरी का पालन करना होगा। हर केंद्र पर उसकी क्षमता से एक तिहाई परीक्षार्थियों को बैठाया जाएगा।

3- सुबह 9:30 से 11:30 और दोपहर 2:30 से शाम 4:30 तक दो पालियों में परीक्षा का आयोजन होगा। परीक्षा शुरू होने से 10 मिनट पहले तक ( सुबह की शिफ्ट में 09:20am और दोपहर की शिफ्ट में 02:20pm) ही परीक्षा केंद्र में एंट्री दी जाएगी।

4- परीक्षा के प्रत्येक सत्र में उपस्थित होने के लिए, परीक्षार्थियों को अपने फोटो आईडी कार्ड, जिसका नंबर ई-एडमिट कार्ड पर दिया गया है, साथ लाना होगा।

5- परीक्षार्थी OMR शीट व अटेंडेंस शीट भरने के लिए अपने साथ ब्लैक बॉल प्वॉइंट पैन जरूर लेकर जाएं।

गोरखपुर में 39 केन्द्रों पर हुई परीक्षा, 18141 परीक्षार्थी हुए शामिल

लखनऊ।

गोरखपुर जिला प्रशासन ने भी परीक्षा की तैयारियां पूरी कर ली है। रविवार को शहर के 39 केंद्रों पर 18141 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल होंगे। दो पालियों में होने वाली परीक्षा को संपन्न कराने के लिए काफी संख्या में अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। अपर जिलाधिकारी नगर आरके श्रीवास्तव ने बताया कि परीक्षा को पारदर्शी तरीके से आयोजित कराने के लिए शनिवार को सभी अधिकारियों एवं केंद्राध्यक्षों के साथ बैठक की गई है।

यहां पढ़ें – MH CET सेल ने लाॅ परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र किया जारी, वेबसाइट से करें डाउनलोड

सभी केंद्रों को कराया गया सैनिटाइज –
बताते चलें कि कुल 39 केंद्र बनाए गए हैं और हर केंद्र पर एक निरीक्षणकर्ता अधिकारी की ड्यूटी लगाई गई है। ये अधिकारी दोनों पालियों में परीक्षा शुरू होने के दो घंटा पहले पहुंचकर तैयारियों का जायजा लेंगे। सभी केंद्रों को सैनिटाइज कराया गया है। हर परीक्षा केंद्र पर प्रश्नपत्र पहुंचाने के लिए एक-एक सहायक समन्वयी पर्यवेक्षक की ड्यूटी लगाई गई है। परीक्षार्थी मास्क लगाकर ही परीक्षा केंद्रों पर जाएं। जिनके पास मास्क नहीं होगा, उन्हें केंद्र पर ही मास्क उपलब्ध कराया जाएगा।

पटना में 97 केंद्रों पर हुई परीक्षा, पर्याप्त संख्या में मजिस्ट्रेट एवं पुलिस बल की हुयी प्रतिनियुक्ति

पटना।

यूपीएससी सिविल सर्विसेज की प्रारंभिक परीक्षा के लिए पटना मे 97 केंद्र बनाए गए है। परीक्षा के दौरान विधि-व्यवस्था बहाल रखने के लिए पर्याप्त संख्या में मजिस्ट्रेट एवं पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति की गई है। कोरोना काल में परीक्षा को लेकर तमाम ऐहतियाती उपाय किए गए हैं। परीक्षा में कदाचार को रोकने के लिए केंद्रों पर जैमर लगाए गए हैं। इसके लिए सभी केंद्र अधीक्षक को समन्वय स्थापित कर त्वरित कार्रवाई का निर्देश दिया गया।

परीक्षा आयोजन को लेकर हुआ विरोध –
कोरोना महामारी के चलते बहुत से छात्र परीक्षा नहीं दे रहे, परंतु अधिकतम छात्रों ने देश के विभिन्न शहरों मे बने परीक्षा केन्द्रों पर जाकर परीक्षा दी है, हालांकि कई छात्रों ने परीक्षा आयोजन को लेकर विरोध किया और परीक्षा स्थगित करने की मांग की थी जिसको सुप्रीम कोर्ट द्वारा खारिज कर दिया था। इससे पहले जेईई और नीट परीक्षा को लेकर भी काफि विरोध प्रदर्शन हुआ हुई जिसका कोई फायदा नहीं हुआ था।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: