University/Central University

उच्च शिक्षा से जुड़ी मुख्य खबरें (NTA व JNU विशेष)

एनटीए ने बीएससी नर्सिंग कोर्स के लिए शुरू की आवेदन प्रक्रिया

नई दिल्ली,
राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) ने शैक्षणिक वर्ष 2020-21 के लिए अस्पतालों में संचालित बीएससी (ऑनर्स) नर्सिंग कोर्स में दाखिले के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। एजेंसी द्वारा 19 अक्टूबर को जारी नोटिस के अनुसार, बीएससी (ऑनर्स) नर्सिंग कोर्स में दाखिले के उम्मीदवार एजेंसी की ऑफिशियल वेबसाइट, con.lhmcee.nta.ac.in पर आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया 19 अक्टूबर से शुरू हो गई है। छात्र 30 अक्टूबर तक एडमिशन के लिए आवेदन कर सकते है। वहीं, प्रवेश परीक्षा का आयोजन 20 नवंबर 2020 को किया जाएगा।

क्या होनी चाहिए दाखिले के लिए निर्धारित शैक्षणिक योग्यता –
बता दें कि हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, नई दिल्ली और अन्य सम्बद्ध अस्पतालों में संचालित बीएससी (ऑनर्स) नर्सिंग कोर्स में शैक्षणिक वर्ष 2020-21 में दाखिले के लिए निर्धारित शैक्षणिक योग्यता किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से इंग्लिश, फिजिक्स, केमिस्ट्री और बॉयोलॉजी विषयों के साथ न्यूनतम 45 फीसदी के साथ सीनियर सेकेंड्री (12वीं) उत्तीर्ण होना चाहिए। साथ ही, उम्मीदवारों की आयु 31 दिसंबर 2020 को न्यूनतम 17 वर्ष होनी चाहिए। ध्यान दे कि इस कोर्स के लिए सिर्फ महिला उम्मीदवार ही आवेदन कर सकती हैं।

ये भी पढ़ें – यूजीसी ने बीएचयू सहित सभी केंद्रीय व राज्य विश्वविद्यालयों से मांगी आरक्षण नीति के क्रियान्वयन की रिपोर्ट

क्या है बीएससी नर्सिंग परीक्षा? –
बीएससी (Hons) नर्सिंग कोर्स में दाखिले के लिए उम्मीदवारों का चयन कंप्यूटर आधारित टेस्ट (CBT) के माध्यम से किया जाएगा। परीक्षा 2 घंटे की होगी जिसमें इंग्लिश, फिजिक्स, केमिस्ट्री और बॉयोलॉजी के साथ-साथ जनरल नॉलेज विषयों से कुल 120 प्रश्न पूछे जाएंगे। वहीं, परीक्षा के लिए अधिकतम अंक 360 निर्धारित हैं। परीक्षा का आयोजन सिर्फ दिल्ली शहर में ही किया जाएगा। परीक्षा केंद्रों का आवंटन कंप्यूटर सिस्टम द्वारा किया जाएगा, जिसकी जानकारी उम्मीदवार प्रवेश पत्र से ले पाएंगे। अधिक जानकारी के लिए छात्रों को वेबसाइट चेक करते रहना होगा।

2 नवंबर से जेएनयू मे चरणबद्ध तरीके से होगी छात्रों की वापसी

नई दिल्ली,
जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) की ओर से छात्रों की चरणबद्ध वापसी के लिए रजिस्ट्रार ने बुधवार को नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। छात्र 2 नवंबर से कॉलेज वापस आ सकेंगे। वापसी को दो चरणों में बांटा गया है। नोटिफिकेशन के मुताबिक शुरुआती चरण में केवल फाइनल ईयर पीएचडी के रिसर्च स्कॉलर्स को प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। ये रिसर्च स्कॉलर्स वह छात्र होंगे जिन्हें साइंस स्कूल में लेबोरेट्री की जरूरत है। स्पेशल सेंटर से जुड़ी जरूरत वाले फाइनल ईयर पीएचडी स्टूडेंटस को भी कैंपस में प्रवेश की इजाजत दी गई है।

दूसरा चरण 2 नवंबर से होगा शुरू –
पहला चरण 2 नवंबर से शुरू होगा। 2 नवंबर से ऐसे पीएचडी (Final Year) के ऐसे शोधार्थी (9बी स्टूडेंट्स समेत) प्रवेश कर सकेंगे जिन्हें साइंस स्कूल/सेंटर में लेबोरेट्री की जरूरत और जिन्हें 31 दिसंबर 2020 या 30 जून 2021 से पहले पीएचडी थीसिस जमा करानी है। तो वहीं दूसरा चरण 2 नवंबर से शुरू होगा। 2 नवंबर से पीएचडी (Final Year) के ऐसे शोधार्थी (9बी स्टूडेंट्स समेत) प्रवेश कर सकेंगे जिन्हें साइंस स्कूल/सेंटर में लेबोरेट्री की जरूरत और जिन्हें 31 दिसंबर 2020 या 30 जून 2021 से पहले पीएचडी थीसिस जमा करानी है। ये वह स्टूडेंटस होंगे जिन्हें होस्टल की सुविधा मिली हुई है।

कुछ मुख्य बिंदु –
– नोटिस के मुताबिक शोधार्थियों को प्रवेश के लिए अपने सुपरवाइजर की लिखित अनुमति लेनी जरूरी होगी।
– दिल्ली के बाहर से आने वाले छात्रों को यूनिवर्सिटी में प्रवेश करने से पहले 7 दिनों के लिए खुद को क्वारंटाइन रखना होगा।
– छात्रों को कैंपस में कोविड-19 से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन करना होगा।
– मीटिंग ऑनलाइन मॉड से ही होगी।
– कैंपस में कैंटीन और ढाबे बंद ही रहेंगे।
– सेंट्रल लाइब्रेरी बंद रहेगी।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: