Abroad NewsUniversity/Central University
Trending

एएमयू के सर सैयद अकादमी ने विवि के शताब्दी वर्ष के अवसर पर आयोजित किया अंतरराष्ट्रीय वेबिनार

लखनऊ :
एएमयू के सर सैयद अकादमी द्वारा विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष के अवसर पर दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। प्रसिद्ध इतिहासकार, लेखक तथा अलीगढ़ आन्दोलन के ज्ञाता प्रो. डैविड लेलिवेल्ड (विलियम पिटरसन यूनिवर्सिटी, यूएसए) ने उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि सर सैयद एक बहुआयामी व्यक्तित्व के मालिक थे। वह सामाजिक और बौद्धिक क्रांतियों के बारे में गहरी जानकारी रखते थे। वह धार्मिक विचार और महान समाज सुधारक के साथ-साथ विज्ञान और इतिहास की शिक्षा के समर्थक भी थे। उन्होंने जिस संस्थान की स्थापना की वह आज उपमहाद्वीप में अग्रणी संस्थानों में से एक है।

ऐसे हुई एएमयू की स्थापना –

प्रो. डैविड लेलिवेल्ड ने 1870 के बाद के दिनों का जिक्र करते कहा कि सैयद महमूद ने 1873 में एमएओ कॉलेज फंड समिति की बैठक में प्रस्तावित विश्वविद्यालय की योजना प्रस्तुत की थी। 1875-1898 सर सैयद के शानदार नेतृत्व का वर्ष था, और 1930 में, गजट अधिसूचना के साथ, एमएओ कॉलेज एएमयू में तब्दील हो गया

आधुनिक स्कूलों की स्थापना की प्रक्रिया शुरू की –

एम जे अकबर ने कहा कि “इंग्लैंड की अपनी यात्रा पर, सर सैयद ने एक नौकरानी को एक अखबार पढ़ते हुए देखा, जिसने उन्हें प्रभावित किया। वह पश्चिम के लैंगिक सुधारों को भारत में लाना चाहते थे। एएमयू के पूर्व कुलपति जमीरुद्दीन शाह ने कहा कि सर सैयद के अलीगढ़ आंदोलन को आगे ले जाने की आवश्यकता है। वह सर सैयद के जीवन और मिशन से प्रेरित दूसरे अलीगढ़ आंदोलन का हिस्सा बन गए हैं और उन्होंने आधुनिक स्कूलों की स्थापना की प्रक्रिया शुरू की है। उन्होंने बताया कि ऐसे तीन स्कूल स्थापित किए गए हैं और कई स्कूलों की स्थापना का कार्य चल रहा है। उन्होंने छात्रों से नैनो टेक्नोलॉजी, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और रोबोटिक्स जैसे आधुनिक विषयों पर ध्यान केंद्रित करने की अपील की। पूर्व कुलपति नसीम अहमद ने कहा कि सर सैयद ने व्यापक अलीगढ़ आंदोलन की नींव रखी और शैक्षिक सुधार के अग्रदूत बने।

एएमयू ने ज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में अमूल्य सेवाएं प्रदान की –

एएमयू के कुलपति प्रो. तारिक मंसूर ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि कोई भी संस्थान अपने मूल्यों और परंपराओं के लिए जाना जाता है। अपनी स्थापना के बाद से, एएमयू ने ज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में अमूल्य सेवाएं प्रदान की हैं और देश के निर्माण में एक महान भूमिका निभाई है। सर सैयद अकादमी के निदेशक प्रो. अली मुहम्मद नकवी ने स्वागत भाषण में कहा कि एएमयू की स्थापना सर सैयद के सपने को साकार करने वाली घटना थी। रजिस्ट्रार अब्दुल हमीद ने आभार व संचालन डॉ. सैयद हुसैन हैदर ने किया।

अन्य और खबरें पढ़ें यहां –

भारत बंद के कारण कई परीक्षाएं हुई स्थगित, जानें नई तारीखें

नई दिल्ली :
8 दिसंबर को देश भर के किसानों द्वारा बुलाये गये भारत बंद के चलते कई परीक्षायें स्थगित कर दी गई। इसके चलते 8 दिसंबर और कल, 9 दिसंबर 2020 को आयोजित होने वाली कई परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है। इन परीक्षाओं में राज्यों के विश्वविद्यालयों की परीक्षाओं से लेकर राष्ट्रीय स्तर पर होने वाली प्रतियोगिता परीक्षाएं शामिल हैं। इन परीक्षाओं के आयोजक संस्थानों में से कुछ ने नई परीक्षा तिथियों की घोषणा भी कर दी है, जबकि कुछ परीक्षाओं के लिए नई तारीखों को लेकर अभी तक कोई घोषणा नहीं की गयी है।

सीए फाउंडेशन पेपर 1 परीक्षा स्थगित –

इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) ने आज के लिए प्रस्तावित सीए फाउंडेशन की पेपर 1 परीक्षा को स्थगित कर दिया है। संस्थान द्वारा जारी नोटिस के अनुसार यह परीक्षा अब 13 दिसंबर 2020 को आयोजित की जाएगी।

पूरी खबर पढ़ें यहां (क्लिक करें)

Show More

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: