Sports

भारतीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद इस खिलाड़ी ने कहा- मैं अमेरिका के लिए खेलना चाहता हूं

भारत को अपनी कप्तानी में 2012 में अंडर 19 विश्व कप दिलाने वाले बल्लेबाज उन्मुक्त चंद ने भारतीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है और वे अमेरिका चले गए हैं। उन्होंने कहा कि वह अब कुछ वर्षों तक अमेरिका के लिए खेलना चाहते हैं।

नई दिल्ली। भारतीय टीम को अपनी कप्तानी में 2012 में अंडर 19 विश्व कप जिताने वाले बल्लेबाज उन्मुक्त चंद का करियर काफी उतार-चढ़ाव वाला रहा है और अब उन्होंने भारतीय क्रिकेट को अलविदा कहकर अमेरिका के लिए खेलने की योजना बना ली है। यहां तक के वे अमेरिका माइनर क्रिकेट लीग भी खेल रहे हैं और अब उन्होंने ये भी स्पष्ट कर दिया है कि वे कुछ सालों तक अमेरिका के लिए खेलना चाहते हैं।

उन्मुक्त चंद ने काफी नाम कमाया था, लेकिन कभी भारतीय टीम में जगह नहीं मिली, लेकिन अब अमेरिका में वे सीनियर क्रिकेट खेल रहे हैं। उन्होंने पहले से ही माइनर लीग क्रिकेट (एमएलसी) में खेलना शुरू कर दिया है। उन्मुक्त ने न्यूज एजेंसी आइएनएस से बात करते हुए भारत में अपने करियर और भविष्य की योजना पर चर्चा की। उन्होंने भारतीय क्रिकेट की तारीफ भी की, क्योंकि उन्होंने बहुत क्रिकेट यहां खेली है। उन्मुक्त चंद ने कहा, “भारत में मेरी यात्रा बहुत अच्छी रही है। रैंकों के माध्यम से खेलना और अंडर-15, अंडर-17, अंडर -19 दिनों से लेकर रणजी ट्रॉफी, इंडियन प्रीमियर लीग, इंडिया ए, अंडर 19 विश्व कप में आना। मेरा मतलब है कि यह एक शानदार यात्रा रही है। मैं इसे प्यार करता था। जब मैंने क्रिकेट खेलना शुरू किया था, तो मैंने कभी नहीं सोचा था कि यह इस तरह बढ़ेगी। बहुत खुशकिस्मत हूं कि मैंने शानदार पलों के साथ-साथ इन पलों को जीया।”

यह भी पढ़ें – T20 World Cup के लिए भारतीय टीम का चयन करने में होगी मुश्किल, ये हैं विकल्प

उनका कहना है, “इस जीवन को जीने के लिए भाग्यशाली हूं जिसके बारे में मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था। मैं भारत में इतना समय बिताकर बहुत खुश हूं, जहां मैं तीन महीने पहले तक था। मैं क्रिकेट खेलने के अलावा और कुछ नहीं जानता। मैंने भारतीय क्रिकेट में एक छोटी सी छाप छोड़ी। मैं अब अमेरिका की चीजों को देख रहा हूं।” वहीं, जब उनसे पूछा गया कि 2012 अंडर 19 विश्व कप जीतने के बाद उनको क्या उम्मीद थी कि वे भारत के लिए खेलेंगे?

इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, “जाहिर है देश के लिए खेलना किसी के लिए भी एक सपना होता है। कोई भी अंडर-19 क्रिकेटर देश के लिए खेलना चाहेगा। यह मेरे लिए बहुत मुश्किल रहा है। बहुत सारे क्रमपरिवर्तन और संयोजन भी चल रहे थे, आप जानते हैं। बहुत सारी बातें हो रही थीं। क्रिकेट में किस्मत का बहुत बड़ा रोल होता है। हम सब जानते हैं। आप देश के लिए खेलने की उम्मीद करते हैं। आप इसके लिए काम करते हैं, लेकिन चीजें वैसी ही चलती हैं जैसी उनकी किस्मत में होती है न कि जिस तरह से हम उनकी योजना बनाते हैं। क्रिकेट ने मुझे वह इंसान बनाया है जो मैं आज हूं। यह संभव नहीं होता अगर यात्रा कोई अलग होती। मुझे कोई पछतावा नहीं है।”

उनसे पूछा गया कि क्या सीनियर के साथ रहते तो उनके करियर पर फर्क पड़ता तो इसके जवाब में उन्होंने कहा, “जब आप सफर को पीछे मुड़कर देखते हैं, तो आपको निश्चित रूप से लगता है कि अगर आप दौरे पर होते या सीनियरों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते, तो चीजें अलग नहीं होतीं। लेकिन आप बार-बार यह नहीं सोचना चाहते कि क्या ऐसा होता या ऐसा होता। हकीकत में जीना बेहतर है। हम सभी बहुत सी चीजों के बारे में सोच सकते हैं। मैं वहां नहीं जाना चाहता।”

यह भी पढ़ें – T20 World Cup 2021: ICC ने जारी किया शेड्यूल, 28 दिन तक 12 टीमों में घमाशान, जानिये कब-कब किससे भिड़ेगा हिन्दुस्तान

इस सवाल-जवाब के दौरान उन्होंने अमेरिका में अपने करियर को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा, “मैं अमेरिका में अपने करियर के बदलाव को लेकर वास्तव में आशावादी हूं। यह एक अच्छी जगह है। मुझे कुछ अलग नहीं लगता। आसपास बहुत सारे भारतीय हैं। मेरा मतलब इतने सारे भारतीय हैं, मैं आपको बता भी नहीं सकता। ऐसा लगता है कि आप अमेरिका में भारतीयों के लिए खेल रहे हैं। देश में प्रतिभा की मात्रा बहुत बड़ी है। यहां कई खिलाड़ी आए हैं तो यह वास्तव में प्रतिस्पर्धी है। मुझे यकीन है कि अगले कुछ वर्षों में, अमेरिकी क्रिकेट समृद्ध होगा। उम्मीदें वाकई बहुत ज्यादा हैं। प्रमुख लीग अगले साल आ रही है, यह निश्चित रूप से अमेरिकी क्रिकेट के लिए एक बूस्टर है।”

वहीं, भारत से जुड़े रहने को लेकर उन्मुक्त चंद ने कहा, “मैं यहां हूं, लेकिन मैं भारत से जुड़ा हूं। आजकल क्रिकेट इतना ग्लोबल हो गया है। वास्तव में, दुनिया इतनी करीब आ गई है कि आपको नहीं लगता कि आप कहीं और हैं। मैं भारत से इतनी अच्छी तरह जुड़ा हुआ हूं कि मुझे अब भी यह नहीं लगता कि मैंने भारतीय क्रिकेट छोड़ दिया है। इसका इस तथ्य से भी बहुत कुछ लेना-देना है कि अमेरिका में बहुत सारे भारतीय हैं। यहां भारतीयों की इतनी भीड़ है कि मुझे नहीं लगता कि मैं देश से दूर हूं, लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप यहां हैं या वहां। यह सर्वश्रेष्ठ होने, पेशेवर होने के बारे में है। मैं इसके लिए उत्सुक हूं और अगले कुछ वर्षों में दुनिया भर की लीग और माइनर लीग, मेजर लीग और अमेरिका के लिए क्रिकेट खेलने की ओर देख रहा हूं।”

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: