IIT/EngineeringIndian News

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने किया IIT भुवनेश्वर में शैक्षणिक परिसर का उद्घाटन

कौशल विकास संस्थान, भुवनेश्वर और आईआईटी, भुवनेश्वर के बीच कम रोजगार, बेरोजगार और वंचित युवाओं के लिए विशेषज्ञता साझा करने और कौशल विकास गतिविधियों को बढ़ाने के लिए एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए गए।

भुवनेश्वर। केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने शुक्रवार को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) भुवनेश्वर में एक शैक्षणिक परिसर का उद्घाटन किया और उम्मीद जताई कि अतिरिक्त बुनियादी ढांचा इस प्रमुख संस्थान के छात्रों को अधिक उत्कृष्टता के लिए प्रयास करने में सक्षम बनाएगा। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वैश्विक चौथी औद्योगिक क्रांति ने दुनिया के लिए व्यापार और विकास के नए मॉडलों के निर्माण को अनिवार्य कर दिया है और आईआईटी भुवनेश्वर को ऐसे आदर्श बनाने चाहिए, रोजगार पैदा करने में मदद करनी चाहिए और आधुनिक समस्याओं को हल करना चाहिए।

प्रधान ने यहां संस्थान में पुष्पगिरी लेक्चर हॉल कॉम्प्लेक्स और रुशिकुल्या हॉल ऑफ रेजिडेंस का उद्घाटन करने के बाद कहा कि ओडिशा जैसे आपदा-संभावित राज्य में स्थानीय और पर्यावरणीय मुद्दों के समाधान के लिए संस्थानों के बीच अधिक सहयोग की आवश्यकता है। उन्होंने कहा, ‘‘विश्व स्तरीय अनुसंधान और नवाचार पर ध्यान देने के साथ, हमारे आईआईटी वास्तव में भारत की प्रगति और उच्च शिक्षा में सफलता के प्रतीक बन गए हैं।’’

यह भी पढ़ें – भारतीय राजदूत ने अमेरिकी विश्वविद्यालयों के प्रमुखों के साथ किया संवाद

केन्द्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘हमारी आईआईटी दुनिया के शीर्ष विश्वविद्यालयों में से हैं और वैश्विक तकनीकी जरूरतों में योगदान दे रही हैं।’’ आईआईटी भुवनेश्वर के निदेशक प्रोफेसर राजा कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार ने अब तक दो चरणों में बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए 1,260 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं।

कुमार ने कहा कि वर्तमान परिसर, जिसमें 60, 120 और 240 लोगों के बैठने की क्षमता वाले व्याख्यान कक्षों की सुविधा है, का उपयोग पारंपरिक कक्षाओं के लिए किया जा सकता है और ई-कक्षाओं के रूप में भी काम लिया जा सकता है।

महाराष्ट्र सरकार ने जलवायु फेलोशिप कार्यक्रम के तहत इंटर्नशिप की

महाराष्ट्र सरकार का पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग अपने जलवायु फेलोशिप कार्यक्रम, 2021-22 के तहत उपयुक्त उम्मीदवारों को इंटर्नशिप की पेशकश कर रहा है। एक अधिकारी ने शुक्रवार को यहां बताया कि विभाग ने देश-विदेश में मान्यताप्राप्त विश्वविद्यालयों एवं संस्थानों में पंजीकृत स्नातक, स्नातोकोत्तर एवं शोध अध्येताओं से छह महीने के इंटर्नशिप के लिए आवेदन मंगाये गये हैं।

उन्होंने बताया कि पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे की अगुवाई वाले विभाग द्वारा 20 इंटर्नशिप पदों की घोषणा की गयी है। विज्ञप्ति के अनुसार इंटर्न विभाग के कामकाज से रूबरू होंगे, उसकी इकाइयों को समझेंगे और जलवायु परिवर्तन पर अंतरराष्ट्रीय गठबंधनों में सहयोग करेंगे। आवेदन की अंतिम तिथि 31 अगस्त, 2021 है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: you can not copy this content !!
%d bloggers like this: