NewsSchool Corner

MP बोर्ड के छात्रों को बड़ी राहत, घटाया गया कक्षा 9 से 12 तक का सिलेबस

मध्य प्रदेश बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन ने कोरोना महामारी के संकट को देखते हुए शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए सिलेबस कम कर दिया है।

भोपाल। मध्य प्रदेश बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (MPBSE) ने शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए कक्षा 9 से 12 के सिलेबस को कम कर दिया है। छात्रों को इस वर्ष भी देश में चल रहे कोविड लॉकडाउन के कारण शैक्षिक गतिविधियों में व्यवधान का सामना करना पड़ा है। इसी को देखते हुए MPBSE ने अंग्रेजी, हिंदी, संस्कृत, उर्दू, गणित, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान के साथ-साथ मानविकी, वाणिज्य और विज्ञान स्ट्रीम के छात्रों के लिए कक्षा 9 से कक्षा 12 के सिलेबस को कम करने का फैसला लिया है। सभी कक्षाओं और स्ट्रीम के लिए हटाए गए विषयों की सूची एमपीबीएसई की वेबसाइट – mpbse.nic.in पर उपलब्ध करा दी गई है।

हाल ही में, असम के माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (SEBA) ने कक्षा 9 और कक्षा 10 के सिलेबस को भी कम कर दिया है। काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (CISCE) ने ICSE (कक्षा 10) और ISC (कक्षा 12) परीक्षाओं के सिलेबस को कम कर दिया है। कोरोना वायरस संकट के बीच छात्रों को हो रही कठिनाइयों को देखते हुए सिलेबस को कम करने का फैसला लिया गया है।

 यह भी पढ़ें – जानिए कब जारी होगा नीट पीजी परीक्षा के प्रवेश पत्र, चेक करें लेटेस्ट अपडेट

इससे पहले, मध्य प्रदेश सरकार ने पहली बार स्कूली छात्रों को मुफ्त पाठ्यपुस्तकों के वितरण को पारदर्शी और कागज रहित बनाने के लिए एक ऑनलाइन ट्रैकिंग प्रणाली शुरू की है। मध्य प्रदेश पुस्तकों की ऑनलाइन ट्रैकिंग प्रणाली जियो-टैग तकनीक पर आधारित होगी और वर्तमान शैक्षणिक वर्ष के दौरान तीन करोड़ 55 लाख पुस्तकों को वितरित करने का प्रयास करेगी।

राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (NIC) के सहयोग से ऑनलाइन जियो-टैगिंग प्रणाली तैयार की गई है। ऑनलाइन ट्रैकिंग प्रणाली पाठ्यपुस्तक निगम से पुस्तकों को ट्रैक करने का प्रयास करती है, जहां उन्हें स्कूल स्तर पर बच्चों को वितरित करने के लिए मुद्रित किया जाता है।

MP में खुल गए स्कूल

मप्र सरकार ने 1 सितंबर से कक्षा 6 से 12 तक के स्कूलों को फिर से खोल दिया। स्कूल 50 फीसदी क्षमता के साथ फिर से खोले गए हैं। कक्षा 9 से 12 तक की कक्षाएं सप्ताह में दो बार आयोजित की जा रही थीं। कक्षा 1 से 5 तक की कक्षाएं फिर से शुरू करने पर निर्णय एक सप्ताह बाद की स्थिति के आधार पर लिया जाएगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: