IIT/EngineeringIndian News

इस यूनिवर्सिटी में रक्षा प्रौद्योगिकी में शुरू हुआ एम.टेक कोर्स, ये रही डिटेल्स

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE) ने संयुक्त रूप से रक्षा प्रौद्योगिकी में एम.टेक कोर्स तैयार किया है

नई दिल्ली। केरल के कोल्लम में अग्रणी बहु विषयक शिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान अमृत विश्व विद्यापीठम रक्षा प्रौद्योगिकी में एम.टेक कोर्स की पेशकश कर रहा है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE) ने संयुक्त रूप से यह परास्नातक कोर्स तैयार किया है। विश्वविद्यालय भारत के तेजी से वृद्धि करते रक्षा क्षेत्र की बदलती कौशल आवश्यकताओं को पूरा करने के मकसद से इस कोर्स की पेशकश कर रहा है। विश्वविद्यालय ने स्नातक डिग्री धारक इंजीनियरिंग छात्रों से अकादमिक वर्ष 2021-22 के लिए इस कोर्स में दाखिले के लिये आवेदन मांगे हैं।

उसने यहां एक बयान में कहा कि चूंकि रक्षा प्रौद्योगिक एक बहु विषयक क्षेत्र है तो रसायनिक इंजीनियरिंग से लेकर कम्प्यूटर विज्ञान तक के विभिन्न छात्र इसके लिए आवेदन दे सकते हैं। कोर्स के दौरान छात्रों को डीआरडीओ की प्रयोगशालाओं, रक्षा क्षेत्र में सार्वजनिक उपक्रमों और निजी रक्षा उद्योगों में काम करने का अवसर भी दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें – जेईई मेन 2021 रिजल्ट में हुई देरी, अब जेईई एडवांस्ड के लिए 13 सितंबर से शुरू होंगे रजिस्ट्रेशन

रक्षा प्रौद्योगिकी में एम.टेक कोर्स शुरू होने पर डीआरडीओ के अध्यक्ष जी सतीश रेड्डी ने कहा कि उन्नत तकनीक विकसित करने और रक्षा क्षेत्र में भारत की आत्म निर्भरता की गति तेज करने के लिए अनुसंधान का आधार बढ़ाने की तत्काल आवश्यकता है।

यहां से कर सकते हैं डिप्लोमेट ऑफ नेशनल बोर्ड कोर्स

नेशनल बोर्ड ऑफ एजेकुशन, नई दिल्ली द्वारा पूर्व मध्य रेल के केंद्रीय सुपर स्पेशियलिटी चिकित्सालय, पटना को डीएनबी (डिप्लोमेट ऑफ नेशनल बोर्ड) प्रदान करने हेतु मान्यता प्रदान की गई है। यह भारत सरकार द्वारा अनुमोदित एक मेडिकल योग्यता है जो मेडिकल कॉलेजों द्वारा दी जानेवाली मास्टर डिग्री के बराबर है। NEET PG पास करने के बाद उम्मीदवार इस कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं।

डीएनबी डिप्लोमा पाठ्यक्रम 02 वर्ष की अवधि का होगा और हर सत्र में Family Medicine-02, Gyaene-02 और Paediatric-02 के लिए कुल 06 डीएनबी डिपलोमा सीट का आवंटन किया गया है। इन पाठ्यक्रमों की वैद्यता वर्ष 2025 तक है, जिसे आगे भी बढ़ाया जा सकता है। डीएनबी डिग्री प्राप्त करने के बाद छात्रों को एनबीई द्वारा आयोजित अंतिम परीक्षा अनिवार्य रूप से पास करनी होगी।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: