IIM/ManagementIndian News

भोपाल की शिवांगी ने रचा इतिहास, GMAT में देश में पहली और वर्ल्ड लेवल पर दूसरी रैंक की हासिल

GMAT के रिजल्ट के बाद दुनिया के टॉप मैनेजमेंट कॉलेजों ने शिवांगी का स्क्रीनिंग टेस्ट किया और ग्रुप डिस्कशन हुआ। जिसका रिजल्ट 23 अगस्त को आया। जिसमें शिवांगी को 100% नंबर मिले हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश की बेटी शिवांगी ने मैनेजमेंट टेस्ट में पूरे देश का नाम रोशन कर दिखाया है। भोपाल की रहने वाली शिवांगी गवांदे ने दुनिया में मैनेजमेंट के सबसे बड़े और सबसे मुश्किल टेस्ट ग्रेजुएट मैनेजमेंट एप्टीट्यूड टेस्ट (GMAT) में वर्ल्ड लेवल पर सेकंड रैंक और देश में फर्स्ट रैंक हासिल की है। ऐसा आज तक भारत में किसी ने नहीं किया है। ये कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि शिवांगी ने इतिहास में एक नया अध्याय लिख डाला है।

इंग्लैंड इस परीक्षा को आयोजित करता है। शिवांगी ने GMAT में 800 में से 798 नंबर प्राप्त किए हैं। ये एक बहुत बड़ा रिकॉर्ड है, क्योंकि देश में अब तक किसी भी परीक्षार्थी ने इस परीक्षा में इतने नंबर नहीं हासिल नहीं किए हैं। बता दें कि इस साल GMAT 12 फरवरी को हुआ था। इसके फर्स्ट स्टेज का रिजल्ट 27 मार्च और फाइनल रिजल्ट 23 अप्रैल को आया था।

 यह भी पढ़ें – जेईई एडवांस 2021 परीक्षा के लिए आज इस समय से कर पाएंगे रजिस्ट्रेशन, जानें आखिरी तारीख

किसान की बेटी ने देश का नाम किया रोशन

शिवांगी के पिता महेंद्र गवांदे पेशे से किसान हैं और खेती से जुडे व्यवसाय में ही करते हैं। शिवांगी की मां माधुरी आनंद विहार स्कूल में मैथ्स की टीचर हैं। बेटी की इस कामयाबी से माता-पिता दोनों ही बहुत खुश हैं।

दुनिया के टॉप यूनिवर्सिटीज के स्क्रीनिंग टेस्ट में शिवांगी को मिले 100% नंबर मिले

GMAT के रिजल्ट के बाद दुनिया के टॉप मैनेजमेंट कॉलेजों ने शिवांगी का स्क्रीनिंग टेस्ट किया और ग्रुप डिस्कशन हुआ। जिसका रिजल्ट 23 अगस्त को आया। जिसमें शिवांगी को 100% नंबर मिले हैं। जिसके बाद कैंब्रिज,ऑक्सफोर्ड, हावर्ड, येल, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, लंदन बिजनेस ऑफ स्कूल और देश के सभी आईआईएम ने अपने यहां के एडमिशन सिलेक्शन लेटर भेजे हैं।

मां ने समझाया था कि इंजीनियरिंग नहीं मैनेजमेंट की तरफ जाओ

शिवांगी कहती हैं कि 10वीं पास करने के बाद मां ने कहा था इंजीनियरिंग मत करो, मैनेजमेंट की तरफ जाओ। इसीलिए 11वीं क्लास में मैंने कॉमर्स लिया। रोजाना 8- 10 घंटे पढ़ाई करती हूं। उनके पिता बताते हैं कि आठवीं से दसवीं तक शिवांगी के गले में कुछ तकलीफ थी। तीन साल तबीयत खराब रही, लेकिन उसने साहस और धैर्य से काम लिया।

  • नारसि मुंजी यूनिवर्सिटी मुंबई यानी एनमैट टेस्ट में 360 में से 358 अंक लाकर देश भर में अव्वल रही।
  • जेवियर एप्टीट्यूड टेस्ट एक्सएलआरआई मुंबई, जमशेदपुर के टेस्ट में भी 98.9 फीसदी नंबर लेकर देश में टॉप किया।
  • 2018 में भोपाल के सेंट जोसेफ स्कूल से 12वीं की. फिर यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम, यूपीईएस देहरादून से इसी साल बीबीए किया।
  • इसमें भी वो यूनिवर्सिटी टॉपर रहीं हैं। यहां 9.89 CGPA हासिल किया है।
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: