IIT/EngineeringIndian News

खुशखबरी! इन स्टूडेंट्स को आईआईटी में मिलेगा डायरेक्ट एडमिशन, JEE Exam की जरूरत नहीं

आईआईटी में डायरेक्ट एडमिशन पाने का मौका मिल रहा है. जेईई मेन और जेईई एडवांस्ड देने की जरूरत नहीं होगी।

कानपुर। ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन मेन्स (जेईई मेन्स) (JEE Mains) और जेईई एडवांस्ड (JEE Advanced) के बिना भी आप आईआईटी में एडमिशन पा सकते हैं। इसके कई तरीके हैं, जिनमें से एक के बारे में यहां बताया जा रहा है। आईआईटी बॉम्बे (IIT Bombay) में पहले से ही इस रूट से एडमिशन लिये जा रहे हैं। अब आईआईटी कानपुर (IIT Kanpur) भी इसकी शुरुआत कर रहा है। हाल ही में आईआईटी कानपुर ने बिना जेईई परीक्षा के एडमिशन पाने के इस वैकल्पिक तरीके की घोषणा की है। वह रूट है ओलिंपियाड।

इसमें उन ओलिंपियाड्स को शामिल किया जाएगा जिन्हें वैश्विक मान्यता मिली हुई हो। जो स्टूडेंट्स मैथ्स, फीजिक्स, केमिस्ट्री या इनफॉर्मेटिक्स जैसे किसी भी विषय से ऐसे किसी ओलिंपियाड में क्वालिफाई कर चुके होंगे, उन्हें आईआईटी कानपुर में डायरेक्ट एडमिशन (IIT Kanpur direct admission) दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें – सीबीएसई बोर्ड ने जारी किया टर्म 1 परीक्षा से जुड़ा ये जरूरी नोटिफिकेशन, करें चेक 

आईआईटी कानपुर के अंडरग्रेजुएट एकेडेमिक प्रोग्राम रिव्यू कमेटी के चेयरमैन (UGARC IIT Kanpur) नितिन सक्सेना ने कहा कि ‘जो स्टूडेंट्स इंटरनेशनल ओलिंपियाड क्वालिफाई कर चुके हैं, उन्होंने पहले ही अपनी काबिलियत साबित कर दी है। उन्हें आईआईटी जेईई एग्जाम के जरिये फिर से परखे जाने की जरूरत नहीं है।’

क्या होगा एडमिशन प्रॉसेस

ऐसे ओलिंपियाड में क्वालिफाई करने वाले स्टूडेंट्स आईआईटी कानपुर में अपने स्पेशलाइज्ड सब्जेक्ट के लिए अप्लाई कर सकते हैं। उनके आवेदन को स्वीकार करने या रिजेक्ट करने का फ्रेमवर्क संबंधित विषय के विभाग पर निर्भर करेगा। विभाग चाहे तो स्क्रीनिंग टेस्ट भी ले सकता है। इस टेस्ट की निश्चित प्रक्रिया अभी निर्धारित नहीं की गई है।

विभाग के फैसले के बाद अभ्यर्थी का आवेदन संस्थान के सीनेट के पास भेजा जाएगा जो इसपर अंतिम निर्णय लेगा। नितिन सक्सेना ने कहा कि ‘सिर्फ ओलिंपियाड क्वालिफाई कर लेना ही एडमिशन की गारंटी नहीं होगी। इस रूट से एडमिशन के लिए अन्य मानक भी निर्धारित किये जाएंगे।’

आईआईटी बॉम्बे में पहले से हो रहे ऐसे एडमिशन

ओलिंपियाड के जरिये एडमिशन की शुरुआत आईआईटी बॉम्बे (IIT Bombay Direct Admission) 2018 से ही की जा चुकी है। संस्थान ने बताया है कि जो स्टूडेंट्स इंटरनेशनल मैथ्स ओलिंपियाड (International Maths Olympiad) क्वालिफाई करते हैं, उन्हें बीएससी मैथ्स प्रोग्राम में एडमिशन दिया जाता है। इसके लिए जेईई एडवांस्ड या मेन की जरूरत नहीं होती।

संस्थान में इसके लिए 6 सीट्स हैं। हालांकि अंतिम निर्णय स्क्रीनिंग प्रॉसेस, उसके बाद संबंधित विभाग और अंत में सीनेट पर निर्भर करता है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: you can not copy this content !!
%d bloggers like this: