Sports

न्यूजीलैंड को हारने के लिए टीम इंडिया का मास्टर प्लान, NCA वाले फॉर्मूले से जीतेगा हिंदुस्तान!

दुबई के मैदान पर ओस (Dew) के चलते सिर्फ भारत को ही हार का सामना नहीं करना पड़ा बल्कि टॉस हारने वाली हर टीम को इसकी कीमत चुकानी पड़ रही है।

दुबई। टीम इंडिया को अगला मैच 31 अक्टूबर को न्यूजीलैंड से खेलना है. ये मुकाबला भी दुबई में ही होगा। यानी वही मैदान जहां पर पाकिस्तान ने भारत को 10 विकेट से हराया था और, जिसमें भारत की हार की एक बड़ी वजह बनी थी ओस। जैसा कि कप्तान विराट कोहली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी कहा था कि भारतीय गेंदबाज अगर पाकिस्तान का एक भी विकेट लेने में कामयाब नहीं हुए तो उसमें एक बड़ी वजह ओस थी। दुबई के मैदान पर ओस के चलते सिर्फ भारत को ही हार का सामना नहीं करना पड़ा बल्कि टॉस हारने वाली हर टीम को इसकी कीमत चुकानी पड़ रही है. लेकिन, न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले से पहले टीम इंडिया इसका तोड़ ढूंढ़ने में जुटी है।

टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले की प्रैक्टिस बुधवार से शुरू कर दी है। टीम ने नेट्स पर जमकर पसीना बहाया है. जाहिर है इस दौरान ओस से निपटने की भी तैयारी की गई होगी। हालांकि, ऐसा नहीं है कि T20 वर्ल्ड कप जैसे बड़े इवेंट में टीमों को पहली बार ओस से दो-चार होना पड़ा है। इससे पहले बांग्लादेश में खेले 2014 के T20 वर्ल्ड कप भी ओस टीमों के लिए बड़ी समस्या बन गई थी। तब उससे निपटने के लिए टीमें गेंद को पानी के बाल्टी में डुबोकर उससे अभ्यास कर रही थीं।

यह भी पढ़ें – पाकिस्तान के हाथों न्यूजीलैंड की हार भारत की राह सेमीफाइनल के लिए आसान!

ओस से निजात दिलाएगा NCA वाला प्लान!

लेकिन, टीम इंडिया अब बेंगलुरु स्थित नेशनल क्रिकेट एकेडमी यानी NCA के फॉर्मूले को अपने अभ्यास में लाने की कोशिश कर रही है। दरअसल, न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले से पहले TOI की केस स्टडी को मानें तो ड्यू फैक्टर का मुकाबला करना NCA में अब उसके पाठ्यक्रम का हिस्सा बन चुका है। भारतीय टीम भी उसी रुटीन में प्रैक्टिस करती है। इसमें प्रैक्टिस के दौरान गेंद को गीली करने का मकसद होता है कि खिलाड़ी उसे पकड़ने के आदी हो जाएं। इस बीच गेंद को काफी गीला, नम और फिसलन भरा बनाने पर जोर दिया जाता है, जैसी अमूमन ओस वाली गेंद होती है।

एशिया के क्रिकेट के मैदान में ओस एक बड़ी परेशानी रहती है और भारतीय टीम के ज्यादार मैच ऐसे ही मौसम में होते है तो ये कहना गलत नहीं होगा की अगर भारतीय टीम NCA के फॉर्मूले को अपनाती है और सही प्रकार से प्रैक्टिस करती है तो टॉस हारने से भी कोई परेशानी नहीं होगी और भरे भारतीय टीम के खिलाडियों ने पहले भी ऐसी कंडीशन में भारत को मैच जिताया है।

पाकिस्तान से हार के बाद विराट कोहली ने कहा कि उनकी टीम को पता है कि चीजें कहां गलत हुईं। हफ्ते भर के ब्रेक से उनकी टीम को मुद्दों का समाधान करने में मदद मिलेगी। यह लगभग तय है कि हफ्ते का ज्यादातर समय प्रैक्टिस में ओस की समस्या से निपटने में व्यतीत होगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: you can not copy this content !!
%d bloggers like this: