NewsSchool Corner

पूर्वी दिल्ली नगर निगम के स्कूल खुलेंगे 8 नवंबर से, 50% छात्रों के साथ चलेंगी कक्षाएं

कोविड-19 मामलों की संख्या में क्रमिक गिरावट के बाद अब पूर्वी दिल्ली नगर निगम (EDMC) द्वारा संचालित स्कूल खोल दिए जाएंगे.

नई दिल्ली। पूर्वी दिल्ली नगर निगम (EDMC) द्वारा संचालित स्कूल डेढ़ साल से भी ज्यादा समय के बाद आठ नवंबर से 50 प्रतिशत क्षमता के साथ फिर से खुलेंगे। नगर निकाय की तरफ से शुक्रवार को यह जानकारी दी गई। कोविड-19 मामलों की संख्या में क्रमिक गिरावट के बाद उत्तर दिल्ली नगर निगम और दक्षिण दिल्ली नगर निगम के अधिकारियों ने इस सप्ताह की शुरुआत में एक नवंबर से उनके द्वारा चलाए जा रहे स्कूलों को फिर से खोलने के आदेश जारी किए थे।

दिल्ली में कोरोना वायरस महामारी की वजह से जारी लॉकडाउन के बाद से ही स्कूल बंद थे। ईडीएमसी के तहत सभी प्राथमिक विद्यालय, प्रतिभा विद्यालय, सहायता प्राप्त और मान्यता प्राप्त स्कूल सोमवार से खुलेंगे। पूर्वी दिल्ली के महापौर श्याम सुंदर अग्रवाल ने नगर निकाय द्वारा जारी एक बयान में कहा, बच्चों को स्कूल भेजने से पहले उनके माता-पिता की सहमति प्राप्त की जाएगी।

यह भी पढ़ें – मध्य प्रदेश बोर्ड ने जारी की 10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं और प्रैक्टिकल और परीक्षा तिथि

महापौर ने कहा कि एहतियात के तौर पर ऐसी व्यवस्था की जा रही है कि कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन सुनिश्चित करने के लिए बच्चों की दी गई संख्या के केवल 50 प्रतिशत को ही बुलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि माता-पिता को सलाह दी जाती है कि यदि बच्चा अस्वस्थ है या उसे खांसी, जुकाम या बुखार है, तो उसे स्कूल न भेजें और संबंधित शिक्षक को इस बारे में सूचित किया जाना चाहिए।

महापौर ने कहा कि स्कूल हालांकि खुल रहे हैं, कक्षाएं डिजिटल माध्यम से भी जारी रहेंगी ताकि जो बच्चे स्कूल नहीं आ पा रहे हैं उनकी पढ़ाई किसी भी कारण से बाधित न हो। ईडीएमसी की शिक्षा समिति के अध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि कोविड ड्यूटी पर तैनात शिक्षकों को राहत दी गई है।

इन कोविड-19 गाइडलाइंस का रखें खास ध्यान

वहीं, DDMA द्वारा जारी किए गए आदेशों के मुताबिक, कोरोना वायरस से रोकथाम के लिए छात्रों को स्कूल में कोविड-19 प्रोटोकॉल्स का पालन करना जरूरी होगा, जोकि इस प्रकार हैं-

1-फेस मास्क लगाना अनिवार्य होगा।
2- स्कूल में पर्सनल हैंड सैनेटाइजर और अलग-अलग लंच ब्रेक, बैठने की वैकल्पिक व्यवस्था होगी।
3- स्कूल आने के लिए माता-पिता या अभिभावक की मंजरी होनी चाहिए।
4- स्कूल कैंपस और क्लास रूप में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना होगा।
5- स्कूल गेट पर थर्मल स्क्रीनिंग से भी गुजरना पड़ सकता है।
6-कंटेनमेंट जोन में रहने वाले छात्र, शिक्षक और गैर-शिक्षण कर्मचारी को स्कूलों में नहीं आने दिया जाएगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: you can not copy this content !!
%d bloggers like this: