Civil Services AcademyIndian News

26 नवंबर को होगी उत्तराखंड टीईटी परीक्षा, यहाँ देखें एग्जाम पैटर्न

उत्तराखंड बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (UBSE) की ऑफिशियल वेबसाइट- ukutet.com पर परीक्षा केंद्रों और परीक्षा के नियमों के संबंध में जानकारी हासिल कर सकते हैं।

शिमला। उत्तराखंड शिक्षक पात्रता परीक्षा (UTET) 2021 की परीक्षा 26 नवंबर को आयोजित होने वाली है। उत्तराखंड शिक्षा बोर्ड के अधिकारियों ने परीक्षा केंद्रों को लेकर जानकारी साझा की है। यह परीक्षा प्रदेश में 29 शहरों में आयोजित की जाएगी। परीक्षा को सुचारू रूप से चलाने के लिए 200 के करीब परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।

उत्तराखंड बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (UBSE) ने अपने ऑफिशियल वेबसाइट ukutet.com पर एडमिट कार्ड पहले ही जारी कर दिए हैं। परीक्षा दो पालियों में होगी. यह फेसला गुरुवार को रामनगर शिक्षा परिषद के कार्यालय में बोर्ड सचिव डॉ. नीता तिवारी की अध्यक्षता में नोडल परीक्षा केंद्र प्रभारियों के साथ बैठक में लिया गया।

यह भी पढ़ें – डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम विवि ने शुरू की ऑनलाइन ग्रीवांस रिड्रेसल पोर्टल की शुरुआत, छात्र आसानी से शिकायत दर्ज करा सकेंगे

परीक्षा पैटर्न

उत्तराखंड शिक्षक पात्रता परीक्षा (UTET) परीक्षा में शामिल होने वाले उम्मीदवारों को एग्जाम पैटर्न और सिलेबस के बारे में अच्छे से समझ लेना चाहिए। त्तराखंड टीईटी परीक्षा पैटर्न की बात करें तो सबसे पहले बता दें कि, ये भर्ती दो स्तरों (प्राथमिक और उच्च प्राथमिक) पर होती है।

यूटीईटी-1 एग्जाम पैटर्न-

प्राथमिक स्तर की परीक्षा में कुल 5 विषयों से प्रश्न पूछे जाएंगे। इसमें प्रत्येक सब्जेक्ट के लिए 30-30 प्रश्न होते हैं। ऐसे यह परीक्षा कुल,150 अंकों के लिए होती है और इसमें 150 प्रश्न पूछे जाएंगे। इन प्रश्नों को हल करने के लिए आपको कुल ढाई घंटे (150 मिनट) का समय मिलेगा। प्रत्येक प्रश्न 1 अंक का होगा। निगेटिव मार्किंग की बात करें तो इस परीक्षा में किसी भी प्रकार की निगेटिव मार्किंग का प्रावधान नहीं है।

यूटीईटी-2 एग्जाम पैटर्न-

दूसरे स्तर की परीक्षा में कुल 150 प्रश्न पूछे जाएंगे. इसमें प्रत्येक प्रश्न 1 अंक का होगा। ऐसे में कूल 150 अंकों की परीक्षा ली जाएगी। इसमें बाल विकास, प्रथम भाषा, द्वितीय भाषा और चौथी विषय के रूप में गणित एवं विज्ञान, सामाजिक अध्ययन जैसे विषय से प्रश्न पूछे जाते हैं।

सिलेबस

विषयसिलेबस
बाल विकास एवं पैडागॉजीविकास की अवधारणा और सीखने के साथ इसका संबंध, बाल विकास के सिद्धांत, बाल मनोविज्ञान एवं विकासबोध, सामाजिक निर्माण के रूप में लिंग; लिंग भूमिकाएं, लिंग-भेदभाव और शैक्षिक अभ्यास, शिक्षार्थियों के बीच अलग-अलग अंतर, अंतर के आधार को समझना, संवेगात्मक बुद्धि, अनुवांशिकता एवं वातावरण का प्रभाव, समाजीकरण की प्रक्रिया, सामाजिक दुनिया और बच्चे (शिक्षक, माता-पिता, साथी), मल्टी-डिमेंशनल इंटेलिजेंस, भाषा और विचार, बाल-केंद्रित और प्रगतिशील शिक्षा की अवधारणा।
प्रथम भाषा (हिन्दी)हिन्दी व्याकरण का मौलिक ज्ञान- हिन्दी वर्णमाला, तत्सम-तद्भव, पर्यायवाची, विलोम, अनेकार्थ, वाक्यांशों के स्थान पर एक शब्द, समरूपी भिन्नार्थक शब्द, अशुद्ध वाक्यों को, शुद्ध करना, लिंग, वचन, कारक, सर्वनाम, विराम-चिन्ह, मुहावरे एवं लोकोक्तियां, रस,छंद, अलंकार, अपठित बोध, प्रसिद्ध कवि, लेखक और उनकी रचनाएं, हिन्दी भाषा में पुरस्कार, विविध आदि।
द्वितीय भाषा (अंग्रेजी)Spotting Error, Comprehension Passage, Cloze Test, Direct/Indirect Narration, Active/Passive Voice, Antonym, Synonym, Fill in the blanks.
गणितसरलीकरण, समीकरण और उनके प्रयोग, लघूत्तम और महत्तम समापवर्त्य, औसत, अनुपात और समानुपात, मिश्रण और पृथक्करण, प्रतिशतता, साधारण ब्याज, चक्रवृद्धि ब्याज, साझेदारी, लाभ और हानी, टंकी और नल, उम्र पर आधारित प्रश्न, समय और कार्य, समय और दूरी।
पर्यावरण अध्ययनप्रदूषण, स्वास्थ्य और व्यक्तिगत सुरक्षा, जल, वायु और भूमि, प्राकृतिक संसाधन और पर्यावरण, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान का दायरा और संबंध, पर्यावरण तत्वों का बुनियादी ज्ञान, परिवहन और संचार, पेशा आदि।

इसके अलावा विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और संस्कृत विषय के सिलेबस के लिए ऑफिशियल वेबसाइट ukutet.com पर उपलब्ध नोटिफिकेशन को अच्छे से देखें. ऑफिशियल नोटिफिकेशन देखें के लिए यहां क्लिक करें।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: you can not copy this content !!
%d bloggers like this: