Indian NewsSports

प्रधानमंत्री मोदी ने 700 करोड़ रुपये की लागत से 91.38 एकड़ में बनने वाले मेजर ध्यान चंद खेल विवि का किया शिलान्यास

आधुनिक और उत्कृष्ट खेल अवसंरचना से लैस होगा खेल विश्वविद्यालय:- प्रधानमंत्री

मेरठ। प्रधानमंत्री भारत सरकार श्री नरेन्द्र मोदी जी ने आज क्रांतिधरा मेरठ के तहसील सरधना के ग्राम सलावा में 91.38 एकड भूमि पर रू0 700 करोड की लागत से बनाये जाने वाले मेजर ध्यानचन्द खेल विश्वविद्यालय का बटन दबाकर शिलान्यास किया। इससे पूर्व उन्होने मेरठ आगमन पर बाबा औघडनाथ मंदिर में दर्शन किये व पूजा-अर्चना की तथा शहीद स्मारक पर जाकर अमर जवान ज्योति पर पुष्प अर्पित कर नमन किया। शहीद स्तम्भ व शहीद मंगल पाण्डे की प्रतिमा पर भी पुष्प अर्पित किये व राजकीय स्वतंत्रता संग्राम संग्रहालय में लगायी गयी विथिकाओ का अवलोकन कर उसे सराहा। माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा अपने संबोधन में उपस्थित सभी गणमान्य अतिथियों एवं आमजन को नव वर्ष 2022 की बधाई व शुभकामनाएं दी गई।

कार्यक्रम स्थल पर पहुंचकर सर्वप्रथम माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा ओलंपिक एवं पैरा ओलंपिक मे उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों से सीधा संवाद किया गया। जहां उन्होंने खिलाड़ियों से उनके अनुभव साझा किए। इसके उपरांत माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा खेल प्रदर्शनी का अवलोकन किया गया जहां उन्होंने खेल उत्पादो के उत्पादकों से बातचीत कर उनकी समस्याएं व सुझाव सुने तथा उनके द्वारा बनाए गए उत्पादों को गहनता से प्रत्येक स्टॉल पर जाकर देखा। इस दौरान माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा एक स्टॉल पर लगे व्यायाम करने वाली मशीन का स्वयं उपयोग कर जानकारी ली गई।

 

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने कहा कि मेरठ में मेजर ध्यान चंद खेल विश्वविद्यालय की स्थापना से ईको सिस्टम को बढावा मिलेगा। उन्होने कहा कि खेल विश्वविद्यालय आधुनिक और उत्कृष्ट खेल अवसंरचना से लैस होगा। प्रधानमंत्री जी ने कहा रू0 700 करोड की लागत से आधुनिक स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय का निर्माण किया जाएगा इसके अलावा मणिपुर में स्पोर्ट विश्वविद्यालय वर्ष 2018 में स्थापित किया गया था । उन्होने कहा हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद जी की स्मृति में बनने जा रहा प्रदेश का यह प्रथम खेल विश्वविद्यालय उ.प्र. समेत देश की असंख्य खेल प्रतिभाओं को नई दिशा प्रदान करेगा। यहां युवाओ को खेलो से जुडी अंतराष्ट्रीय सुविधाएं मिलेगी यह एक करियर के लिए कैरियर के रूप में स्पोर्टस को अपनाने के लिए जरूरी कैरियर स्किल का निर्माण करेगी। यहां से हर साल 1000 से अधिक बेटे व बेटियां बेहतरीन खिलाडी बनकर निकलेगें। क्रांतिवीरो की नगरी खेल वीरो की नगरी के रूप में अपनी पहचान को और सशक्त करेगी।

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि भारत के इतिहास में मेरठ का स्थान सिर्फ एक शहर का नही है बल्कि मेरठ हमारी संस्कृति हमारे सामथ्र्य का भी महत्वपूर्ण केन्द्र है। रामायण और महाभारत काल से लेकर जैन तीर्थंकरो एवं पंच प्यारो में से मेरठ ने देश की आस्था को उर्जावान किया है। सिंधु घाटी की सभ्यता से लेकर देश के पहले स्वतंत्रता संग्राम तक इस क्षेत्र ने दुनिया को दिखाया है कि भारत का सामथ्र्य क्या होता है। 1857 में बाबा औघडनाथ मंदिर से जो आजादी की जो ललकार उठी दिल्ली कूच का आहवान हुआ उसने गुलामी की अंधेरी सुरंग में देश को नई रोशनी दिखा दी। उन्होने कहा कि क्रांति की इसी नई पीढी से आगे बढते हुये हम आजाद हुये और आज गर्व से अपनी आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे है। उन्होने कहा कि मेरा सौभाग्य है कि यहां आने से पहले उन्हें बाबा औघडनाथ मंदिर जाने का अवसर मिला, वे अमर जवान ज्योति भी गये, स्वतंत्रता संग्राम संग्रहालय को भी देखा।


प्रधानमंत्री जी ने कहा कि खेल वि0वि0 बन जाने से खेल से जुडी प्रतिभाओं के सपने साकार होंगे। उन्होने कहा कि भारत के हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के नाम से यह विश्वविद्यालय जाना जाएगा। उन्होने कहा कि मेजर ध्यानचंद के खेल में दिये गये योगदान के दृष्टिगत केंद्र सरकार ने खेलों के क्षेत्र में दिए जाने वाले सर्वोच्च पुरस्कार खेल रतन पुरस्कार का नाम मेजर ध्यानचन्द खेल रतन पुरस्कार कर दिया है। उन्होने बताया कि मेरठ मेजर ध्यानचंद की कर्मभूमि रही है। उन्होने मेजर ध्यान चन्द के नाम को बहुत गहनता से बताया जिसका मतलब अपने आपको किसी कार्य के लिए केन्द्रित करना है। यदि हम कोई कार्य बिना केन्द्रित करेंगे तो सफलता हासिल नहीं होगी लेकिन हम जब पूर्ण रूप से केन्द्रित और समर्पित होकर कोई कार्य करेंगे तो निश्चित ही सफलता हासिल होगी। उन्होंने कहा बिना ध्यान किए कोई काम नहीं किया जा सकता।

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि मेरठ लोकल के लिए वोकल तो है ही वोकल को ग्लोबल भी बना रहा है। उन्होने कहा कि मेरठ और आसपास के इस क्षेत्र ने स्वतंत्र भारत को भी नई दिशा देने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। राष्ट्र रक्षा के लिए सीमा पर बलिदान हो या फिर खेल के मैदान में राष्ट्र के लिए सम्मान। राष्ट्रभक्ति की अलख को इस क्षेत्र ने सदा प्रज्जवलित रखा है। उन्होने कहा कि मेरठ देश की एक और महान संतान मेजर ध्यान चंद जी की भी कर्मस्थली रहा है।

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि अब यूपी में असली खेल को बढावा मिल रहा है यूपी के युवाओ को खेल की दुनिया में छा जाने का मौका मिल रहा है। उन्होने कहा कि आज हम 21वीं सदी में है और 21 वीं सदी के नये भारत में सबसे बडा दायित्व हमारे युवाओ के पास ही है। उन्होने कहा कि जिस मार्ग पर युवा चल दें वहीं मार्ग देश का मार्ग है। जिधर युवाओ के कदम बढ जाये मंजिल अपने आप चरण चूमने लग जाती है। उन्होने कहा कि युवा नये भारत का कर्णधार भी है, युवा नये भारत का विस्तार भी हैं, युवा नये भारत का नियन्ता भी है और युवा नये भारत का नेतृत्वकर्ता भी है। उन्होने कहा कि हमारे आज के युवाओ के पास प्राचीनता की विरासत भी है, आधुनिकता का बोध भी है। उन्होने कहा कि जिधर युवा चलेगा उधर भारत भी चलेगा और जिधर भारत चलेगा उधर ही दुनिया चलने वाली है।

यह भी पढ़ें – IIT दिल्ली, जामिया मिल्लिया समेत 6,000 संस्थानों का FCRA पंजीकरण समाप्त, जानें पूरा मामला

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि खिलाडियो के सामथ्र्य को बढाने के लिए हमारी सरकार ने अपने खिलाडियो को चार शस्त्र दिये है जिसमें खिलाडियो को चाहिए संसाधन, खिलाडियो को चाहिए टेªनिंग की आधुनिक सुविधा, खिलाडियो को चाहिए अंतरर्राष्ट्रीय एक्सपोजर, खिलाडियो को चाहिए चयन में पारदर्शिता है। हमारी सरकार ने बीते वर्षों में भारत के खिलाडियो को ये चार शस्त्र जरूर मिले इसे सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। हमने स्पोर्टस को युवाओ की फीटनेस और युवाओ के रोजगार, स्वरोजगार उनकी कैरियर से जोडा है। उन्होने कहा कि आज सरकार देश के शीर्ष खिलाडियो को उनके खाने पीने, फिटनेस से लेकर टेªनिग तक लाखो करोडो रूपयो की मदद दे रही है। उन्होने कहा कि खेलो इंडिया खेलो के माध्यम से ही आज बहुत कम उम्र में देश के कोने-कोने में टैलेन्ट की पहचान की जा रही है।

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि ऐसे अनेको खिलाडियो को अंतरर्राष्ट्रीय स्तर का खिलाडी बनाने के लिए उनकी हर संभव मदद की जा रही है। उन्होने कहा कि आज जब भारत का खिलाडी अंतरर्राष्ट्रीय मैदान पर उतरता है तो उसका प्रदर्शन दुनिया भी सराहती है, देखती है। उन्होने कहा कि जो इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ वह पिछले साल के ओलंपिक में मेरे देश के वीर बेटे व बेटियो ने करके दिखाया। एक स्वर में देश बोल उठा खेल के मैदान में भारत का उदय हो गया है। उन्होने कहा कि उ0प्र0 व उत्तराखंड के अनेक छोटे-छोटे कस्बो से सामान्य परिवार के बेटे व बेटियां भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे है।


प्रधानमंत्री जी ने कहा कि इसी क्षेत्र के खिलाडियों ने ओलंपिक व पैराओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व किया है। उन्होने कहा कि हम जब भी एक नयी कार्य संस्कृति को बढाने का कार्य करते है तो इसके लिए तीन चीजे जरूरी होती है सानिध्य, सोच और संसाधन। उन्होने कहा कि खेलो से हमारा सानिध्य सदियो पुराना रहा है लेकिन खेल की संस्कृति पैदा करने के लिए खेलो से हमारे पुराने संबंधो से काम नही चलेगा हमें इसके लिए एक नयी सोच भी चाहिए। खेलो के लिए जरूरी है कि हमारे युवाओ में खेलो के लिए विश्वास पैदा हो यहीं उनका संकल्प भी है और यही उनका सपना भी है। उन्होने कहा कि जब हम जरूरी संसाधन, जरूरी इन्फ्रास्ट्रक्चर पैदा कर लेते है तो खेल की संस्कृति मजबूत होने लगती है।

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि योगी सरकार युवाओं को रोजगार बनाने का कार्य कर रही है रिकॉर्ड तोड़ नियुक्ति दे रही है अटल जयंती पर युवाओं को पढ़ाई के लिए स्मार्टफोन टेबलेट का वितरण किया गया हर गरीब गरीब शोषित पिछड़े सामान्य हर वर्ग के मालिक को ग्रामीण क्षेत्रों में स्वामित्व योजना के अंतर्गत मालिकाना हक देने के लिए कार्य कर रही है जिससे कि उनकी घरोनी दिए जाने का कार्य कर रही है जिससे कि बैंक के माध्यम से भी अपना कुछ कारोबार कर सके और उन्हें एक मालिकाना हक मिल सके ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए सरकार निरंतर कटिबद्ध है किसान सम्मान निधि के से किसानों को हर साल ₹6000 दिए जाने का कार्य किसान के सम्मान के लिए किया जा रहा है गन्ना का भुगतान किसान को समय से किया जा रहा है मेलों का विस्तारीकरण किया जा रहा है ।

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि खेल हमारे जीवन में अच्छे स्वास्थ्य के लिए शारीरिक श्रम, व्यायाम, योग एवं खेलकूद अत्याधिक आवश्यक है। खेल चाहे किसी भी तरह का हो उससे शारीरिक, मानसिक, मनोवैज्ञानिक और बौद्धिक स्वास्थ्य के साथ गहराई से जुड़ा है। खेल एक शारीरिक क्रिया है, जिसके तरीके और नाम अलग हैं। खेल मनुष्य के अन्दर प्रेरणा, साहस, उत्साह, अनुशासन, स्वस्थ स्पर्धा और एकाग्रता लाता है। व्यक्ति के व्यक्तित्व के वृद्धि तथा विकास के साथ ही खेल देश के लिए भी उपयोगी है। खेल मनुष्य में अच्छी भावना, समानता और सामूहिकता का भाव लाता है। खेल समाज के हर उम्र के पुरूषों महिलाओं को पसंद होता है, आज हर जगह शहरी ग्रामीण सहित हर स्तर पर खेल स्पर्धाएं हो रही हैं और युवा खेल स्पर्धाओं में खुलकर भाग ले रहे हैं। सरकार गांव गांव में खेल मैदान स्थापित कर रही है जो हम भी एक नई कार्य संस्कृति को बढ़ाते तो खेल भी उनमें अहम हिस्सा होता है खेलो से हमारा पुराना नाता है।


मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्य नाथ जी ने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव मा0 प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व व मार्गदर्शन में आयोजित किया जा रहा है। उन्होने कहा कि मा0 प्रधानमंत्री जी का आप सभी के प्रति स्नेह व आत्मीयता इस कदर है कि विजीबिलिटी कम होने पर भी दिल्ली से सडक मार्ग से आकर 1857 की स्वतंत्रय भूमि मेरठ की भूमि को प्रणाम करने, बाबा औघडनाथ मंदिर में भगवान शिव का अभिषेक करने, शहीद स्मारक पर कं्रातिकारियो को नमन करने के बाद यहां पर उ0प्र0 की पहली स्पोर्टस यूनिवर्सिटी का शिलान्यास करने आये है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में भारत ने नया कीर्तिमान स्थापित किया है। खेलो इंडिया खेलो के माध्यम से देश की खेल प्रतिभाओ को आगे बढाने के लिए जिस प्रकार की एक नयी प्रेरणा मा0 प्रधानमंत्री जी ने देश के युवाओ के अंदर भरा है वह अभूतपूर्व है, अभिनंदनीय है और उसका परिणाम हमें अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभा के साथ ही अभी विगत वर्ष टोक्यो ओलंपिक व टोक्यो पैराओलंपिक में देखने को मिला है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आज हम मेरठ में जिस खेल विश्वविद्यालय की स्थापना कर रहे हैं इसके पीछे भी कारण है क्यो कि अभी हाल में प्रधानमंत्री जी के मार्ग दर्शन में सांसद खेल प्रतिस्पर्धा देश के हर संसदीय क्षेत्र में हुआ। मेरठ में बने स्पोर्टस आईटिम को देश ही नहीं दुनिया के तमाम उत्कृष्ट खिलाडी उपयोग करते है। उन्होने कहा कि उ0प्र0 सरकार ने उ0प्र0 में एकलव्य क्रीडा कोच की भी स्थापना की है जो खिलाडियो के लिए न केवल राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धाओ के लिए योग्य प्रशिक्षण और कोचिंग की व्यवस्था करेगा।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश के अंदर खेल प्रतिस्र्पधाओ को आगे बढाने के लिए प्रदेश सरकार ने अनेक कदम बढाये है। जिसमें हर गांव में खेल का मैदान, ओपन जिम का निर्माण, हर जनपद में स्टेडियम, मिनी स्टेडियम और तमाम खेल को प्रोत्साहित करने वाले कार्यक्रम हो जिसके लिए राज्य सरकार हर प्रकार की सुविधाओ को आगे बढाने का कार्य कर रही है और भारत सरकार का सहयोग इन सभी कार्यों में राज्य सरकार को भरपूर प्राप्त हो रहा है।

मुख्यमंत्री जी ने बताया कि राज्य सरकार ने तमाम अन्य अंतरर्राष्ट्रीय प्रतिस्र्पाधो में स्थान प्राप्त करने वाले खिलाडियो को, ओलंपिक में पदक प्राप्त करने वाले खिलाडी, एकल वर्ग में स्वर्ण पदक पर रू0 06 करोड, रजत पदक पर रू0 04 करोड, कांस्य पदक पर रू0 02 करोड टीम गेम्म से स्वर्ण पदक पर रू0 03 करोड, रजत पदक पर रू0 02 करोड तथा कांस्य पदक पर रू0 01 करोड का पुरस्कार राज्य सरकार अपने खिलाडियो को प्रदान करता है। इसी प्रकार कामनवेल्थ एशियन गेम्स में भी राज्य सरकार खिलाडियो को प्रोत्साहित करती है आगे बढाने का कार्य कर रही है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पश्चिमी उ0प्र0 अपनी ऊर्जा के लिए, अपनी प्रतिभा के लिए जाना जाता है। यहां का किसान व जवान सदैव न केवल राष्ट्र की सेवा के लिए बल्कि अन्न उत्पादन में भी अपना योगदान दिया है। हर प्रकार से यह भूमि उर्वरा भूमि रही है। हजारो वर्षाे पुराना इसका अपना इतिहास है। उन्होने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में प्रदेश में दंगे बंद हुये, कांवड यात्रा को फिर से प्रारंभ कराया गया। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार बहन बेटियों को सुरक्षा देने का कार्य सरकार दे रही है व युवाओं को रोजगार खेलों को बढ़ावा देने का सरकार निरंतर कार्य कर रही है।

उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य जी ने कहा कि प्रदेश सरकार प्रत्येक वर्ग को योजनाओ का लाभ प्रदान कर रही है व उनका आर्थिक व सामाजिक उत्थान करने के लिए प्रयासरत है। उन्होने कहा कि आज प्रदेश के ग्रामों में भी निर्बाध विद्युत आपूर्ति की जा रही है, सुरक्षा व्यवस्था में आमूल चूल परिवर्तन हुआ है। उन्होने कहा कि अपराधी या तो जेल में है या प्रदेश व देश छोडकर चले गये है।


इस अवसर पर महामहिम मा0 राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल, मा0 उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य, मा0 केंद्रीय राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह, मा0 केंद्रीय राज्य मंत्री संजीव बालियान, मा0 मंत्री श्री कपिल देव अग्रवाल जी, मा0 राज्यमंत्री श्री दिनेश खटीक, मा0 राज्यसभा सांसद श्री विजय पाल सिंह तोमर, मा0 राज्यसभा सांसद श्रीमती कान्ता कर्दम, मा0 सांसद राजेन्द्र अग्रवाल, मा0 सांसद बागपत डा0 सत्यपाल सिंह, मा0 विधायक श्री संगीत सोम, मा0 विधायक श्री सत्य प्रकाश अग्रवाल, मा0 विधायक सोमेन्द्र तोमर, मा0 विधायक जितेन्द्र सतवई, एमएलसी श्री अश्वनी त्यागी, जिला पंचायत अध्यक्ष गौरव चैधरी, सहित आदि उपस्थित रहे ।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: you can not copy this content !!
%d bloggers like this: