NewsSchool Corner

स्कूलों को फिर से खोलने की एडवाइजरी जारी कर सकती है केंद्र सरकार, एक्सपर्ट ग्रुप से मांगे सुझाव

देश में कोरोनावायरस के खिलाफ देशव्यापी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी 2021 को शुरू किया गया था और 18 वर्ष से अधिक आयु की सभी पात्र आबादी का टीकाकरण 1 मई, 2021 से शुरू हुआ था

नई दिल्ली। कोरोनावायरस की थमती रफ्तार के बीच केंद्र सरकार जल्द स्कूलों को दोबारा से खोलने पर एक एडवाइजरी जारी कर सकती है। दरअसल, 15 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीनेशन अभियान को और गति देने के लिए भी कहा जा सकता है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह से देश भर में स्कूल खोलने के तौर-तरीकों पर सुझाव देने और काम करने के लिए कहा है।

समाचार एजेसी एएनआई से सूत्रों ने कहा, ‘कोविड-19 ने सभी आयु वर्ग के बच्चों को प्रभावित किया है। हालांकि, बच्चों में मृत्यु दर और बीमारी की गंभीरता नगण्य है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि बच्चों के स्कूलों में लौटने का समय आ गया है।’ जब से COVID-19 महामारी का प्रकोप हुआ है, तब से स्कूल बंद हैं। कुछ राज्यों ने आंशिक रूप से ऑन और ऑफ के आधार पर स्कूल खोले लेकिन बाद में दोबारा से बंद करने पड़े।

यह भी पढ़ें – कोरोना के चलते यूपी में 15 फरवरी तक बंद रहेंगे स्कूल-कॉलेज, जारी रहेंगी ऑनलाइन कक्षाएं

सूत्रों को कहना है, ‘हालांकि, यह राज्यों को तय करना होगा कि वे स्कूल खोलने के लिए तैयार हैं या नहीं। केंद्र COVID-19 प्रोटोकॉल के सख्त पालन के तहत स्कूलों को फिर से खोलना चाहता है। देशव्यापी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी 2021 को शुरू किया गया था और 18 वर्ष से अधिक आयु की सभी पात्र आबादी का टीकाकरण 1 मई, 2021 से शुरू हुआ था। COVID-19 टीकाकरण का अगला चरण 3 जनवरी से 15 से 18 वर्ष की आयु के किशोरों के लिए शुरू हुआ है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि एक ऐतिहासिक उपलब्धि के रूप में देश में 95 प्रतिशत पात्र आबादी को COVID-19 वैक्सीन की पहली खुराक दी गई है। भारत का COVID-19 टीकाकरण कवरेज गुरुवार शाम को 164.35 करोड़ (1,64,35,41,869) को पार कर गया है।

स्वास्थ्य मंत्री आज करेंगे आठ राज्यों के साथ समीक्षा बैठक

वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया आठ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कोविड-19 की मौजूदा स्थिति पर चर्चा के लिए आज एक समीक्षा बैठक करेंगे। यह समीक्षा बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए आयोजित होगी, जिसमें मांडविया आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरल, तेलंगाना, लक्षद्वीप, तमिलनाडु, पुडुचेरी और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में कोविड-19 की मौजूदा स्थिति तथा वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप को फैलने से रोकने के लिए तैयारियों का जायजा लेंगे। इस सप्ताह की शुरुआत में, भारतीय सार्स-कोव-2 जीनोमिक्स कंसोर्टिया (आईएनएसएसीओजी) ने कहा था कि कोरोना वायरस का ओमिक्रॉन स्वरूप देश में सामुदायिक संक्रमण के स्तर पर है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: