अंतरराष्ट्रीय वेब सेमीनार में उच्च शिक्षा संस्थानों के प्रोफेसरों ने की मंत्रणा

Author

Global User

Shringesh Kumar Dixit

Date :

अंबिकापुर। स्थानीय होलीक्रास वीमेंस कालेज अर्थशास्त्र विभाग एवं इंटरनल क्वालिटी इंश्योरेंस के संयुक्त तत्वावधान में क्वालिटी इंश्योरेंस इन हायर एजुकेशन चैलेंजिस एंड ए अपार्चुनिटी विषय पर एक अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का आयोजन हुआ। इसमें देशभर के विभिन्न उच्च शिक्षा संस्थानों के प्रोफेसर ने हिस्सा लिया। वेबिनार की संयोजक डॉ. कल्पना गुहा विभागाध्यक्ष अर्थशास्त्र में वेब संगोष्ठी का शुभारंभ किया। सभी वक्ताओं एवं अतिथियों का उन्होंने अभिनंदन किया। वेबिनार के तथ्यों एवं उद्देश्यों से सबको अवगत कराया। महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. सिस्टर शाम्तमा जोसेफ इस संगोष्ठी की संरक्षक थी। उन्होंने इंटरनल क्वालिटी इंश्योरेंस इन हायर एजुकेशन का आज के संदर्भ में कितना महत्व है, इस पर विचार प्रस्तुत किए।

यह भी पढ़ें –  कैसी होती है हार्वर्ड विश्वविद्यालय में दाखिले की प्रक्रिया, जानकर हो जाएंगे दंग

प्रथम प्रवक्ता के रूप में बैंगलोर से आयुषी विश्वास ने जलवायु नीतियों पर के प्रभाव को पूरे विश्व के परिदृश्य को लेकर समझाया। यह शोध छात्रा के रूप में शोध कार्य कर रहीं हैं। अश्वनी महाजन एसोसिएट प्रोफेसर दिल्ली विश्वविद्यालय संयोजक स्वदेशी जागरण मंच ने टर्निंग इन टू अपार्चुनिटी सेल्फ रिलायंट इंडिया इस विषय पर कई उदाहरण से स्पष्ट किया कि स्वदेशी प्रतिभा व स्वदेशी वस्तुओं के उत्पाद पर बल देकर आत्मनिर्भर भारत के निर्णय दिए लिए जाने चाहिए। अस्ट्रेलिया की अनुषा विश्वास भी इस वेबिनार में जुड़ी ये सूचना प्रौद्योगिकी में मोनाश विश्वविद्यालय में एसोसिएट के पद पर कार्यरत हैं। क्वालिटी एजुकेशन आनलाइन इस विषय पर व्यावहारिक जानकारी डॉ. ब्रम्हे रवि शंकर विश्वविद्यालय रायपुर स्कूल आफ स्टडी इन इकोनामिक्स में प्रोफेसर हैं। उन्होंने अर्थशास्त्री और शिक्षाविदों के नजरिए से गुणवत्ता प्रबंधन की व्याख्यान दी।

आस्ट्रेलिया में प्रोंटो वोवन लिमिटेड मेलबोर्न में टेक्निकल असिस्टेंट के रूप में कार्यरत अंशुमन आचार्य ने कोविड 19 इंपेक्ट आन आइटी इंस्टीट्यूट अस्ट्रेलिया वर्सेस इंडिया पर तुलनात्मक अध्ययन की काफी अच्छी प्रस्तुति दी। व्याख्यान माला में डॉ. जीए घनश्याम ओएसडी डायरेक्टर आफ हायर एजुकेशन छत्तीसगढ़ ने एश्योर क्वालिटी टू मेंटेन डिग्निटी विषय पर बहुत उपयोगी व ओजस्वी तरीके से व्याख्यान दिया। वेब संगोष्ठी में तकनीकी सहयोग होलीक्रास महाविद्यालय कंप्यूटर साइंस विभाग के सहायक प्राध्यापक अकील अहमद अंसारी व सुनील कुमार रवानी ने दिया। संगोष्ठी में सचिव नीना गुप्ता सहायक प्राध्यापक अर्थशास्त्र ने सभी वक्ताओं प्रतिभागियों व वेब संगोष्ठी के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े लोगों का आभार जताया। सचिव सोनी वर्मा ने भी अपने विचार रखे। इस वेब संगोष्ठी में देश-विदेश लोगों ने जुड़ कर वर्तमान संदर्भ रखी।