लखनऊ विवि में डिप्लोमा कोर्स वाले छात्र नहीं लड़ सकेंगे छात्रसंघ चुनाव, नहीं माना जाएगा रेग्युलर छात्र

Author

Global User

Shringesh Kumar Dixit

Date :

लखनऊ। अब लखनऊ विश्वविद्यालय में डिप्लोमा कोर्स वाले छात्रसंघ का चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। लखनऊ विवि ने डिप्लोमा पाठ्यक्रम के संबंध में एक बड़ा बदलाव कर दिया है। डिप्लोमा पाठ्यक्रम के विद्यार्थियों को लाइब्रेरी और लैब की सभी सुविधाएं तो मिलेंगी पर उन्हें नियमित छात्र नहीं माना जाएगा। पिछले वर्षों में इतिहास रहा है कि नियमित पाठ्यक्रम में दाखिला न मिलने की सूरत में छात्रनेता डिप्लोमा में दाखिला ले लेते थे।

इससे पूर्व कुलपति ने डिप्लोमा पाठ्यक्रम में सीधे दाखिले पर रोक लगाते हुए इन्हें एडऑन के रूप में संचालित किया था। इस साल एडऑन की अनिवार्यता समाप्त की गई है। पर डिप्लोमा पाठ्यक्रम के विद्यार्थी को नियमित विद्यार्थी न मानने का नियम जोड़ दिया है।

यह भी पढ़ें –  धर्मेंद्र हूडा होंगे इनेलो छात्र संघ इकाई के प्रदेश संयोजक

लखनऊ विवि में पिछले वर्षों में 40 से ज्यादा डिप्लोमा कोर्स थे। कई साल से छात्रसंघ चुनाव नहीं हो रहे हैं, लेकिन चुनाव की आस में काफी विद्यार्थी दाखिला लेते थे। इसे देखते हुएलखनऊ विवि ने डिप्लोमा पाठ्यक्रमों को एडऑन प्रणाली पर चलाने की व्यवस्था शुरू की। डिप्लोमा पाठ्यक्रम में केवल लखनऊ विवि के किसी नियमित पाठ्यक्रम में दाखिला लेने वाले विद्यार्थी ही दाखिला ले सकते थे।
एडऑन की श्रेणी में डालने से ये सभी बंद हो गए थे। इस पर एडऑन की अनिवार्यता खत्म करने का निर्णय लिया गया है। इस साल से 31 डिप्लोमा पाठ्यक्रम शुरू करने का फैसला किया गया है। अब डिप्लोमा विद्यार्थियों को रेग्युलर स्टूडेंट नहीं माना जाएगा। अभी तक उनको नियमित विद्यार्थी माना जाता है। ऐसे में वे छात्रसंघ चुनाव भी लड़ सकते थे। इस साल से डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के विद्यार्थी छात्रसंघ चुनाव नहीं लड़ सकेंगे।